मंदिर के घर मे रहने को मजबूर लूदर चंद
March 7th, 2020 | Post by :- | 166 Views

जिला कुल्लू की बंजार तहसील की गाड़ापारली पंचायत के अति-दुर्गम गाँव शाक्टी का कारदार श्री लुदर चंद जो कि अपंग है और अपने पिता की मृत्यु के बाद अपने परिवार का मुखिया है बहुत ही बुरी परिस्थिति में जीवन गुजर वसर कर रहा है।लुदर चंद का अपना घर भी नहीं है। वो अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ गाँव के मंदिर में रहता है।

अपंग होने की बजह से कोई काम भी ठीक से नहीं कर पाता। शाक्टी गाँव की भौगोलिक परिस्थिति तो सर्वविदित है। ना ही गाँव से बाहर आना जाना आसान है और ना ही यहां किसी तरह का रोज़गार/स्वरोज़गार संभव है। जैसा कि आप को विदित होगा कि शाक्टी गाँव की धार्मिक मान्यता पूरी सैंज घाटी में है और इलाके के देवता के आदेश के बिना कोई फैसला नहीं लेते। पिता के देहावसान के बाद कारदार की जिम्मेवारी लुदर चंद निभा रहे हैं।अत्यंत निर्धन व सरकारी योजनाओं की जानकारी के अभाव में लुदर चंद सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं उठा पाए हैं। लूदर चंद सरकार से गुहार लगाते है कि उनकी इस समस्या का समादान जल्द से जल्द हो ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।