लोकगायक मोहित गर्ग का कोरोना पर जागरूकता हमला, करोना का घोंट देंगे दम, कसम खा लो गाने के जरिए जागरूक किया
April 10th, 2020 | Post by :- | 242 Views
लोकगायक मोहित गर्ग का कोरोना पर जागरूकता हमला, करोना का घोंट देंगे दम, कसम खा लो गाने के जरिए जागरूक किया
देहरा, विश्वभर में कोरोना वायरस एक जानलेवा महामारी बन चुकी है I कोरोना वायरस नाम की वैश्विक बीमारी से बचने का एकमात्र उपचार है खुद को संक्रमण से बचाना और यह तभी संभव है जब हम भीड़भाड़ में जाने से बचें।  इसी भीड़भाड़ को रोकने के लिए सरकार ने कर्फ्यू लगाया है। अब लोगों का दायित्व है कि वह पूरी ईमानदारी से  कर्फ्यू का पालन करें। क्योंकि इस महामारी से बचने के लिए यह बेहद आवश्यक है। यह अपील देहरा पईसा के हिमाचली लोकगायक मोहित गर्ग ने अपने नए गाने “कसम खा लो” के माध्यम से आमजन से की I
उन्होंने बताया की ये गाना लोगों को घर में सुरक्षित रहने के लिए प्रेरित करेगा I  अपने इस गाने के जरिये मोहित ने लोगों को प्रधानमंत्री मोदी के लॉकडाउन व कर्फ्यु की समर्थन करने के बारे में जागरूक किया है I गाने के बोल “सुनो रे भारत वालों, करोना का घोंट देंगे दम कसम खा लो” लोगों को काफ़ी भा रहा है I यह गाना उन्होंने अश्वनी गर्ग ने लिखा है व इसको संगीतबद्ध सुशील गोगी द्वारा किया गया है I उनके यूट्यूब चैनल सारंग स्टूडियो प्रोडक्शन पर भी यह गाना उपलब्ध है I यह गीत सोशल साइट्स, मीडिया चैनल व अन्य  डिजिटल प्लेटफार्म पर भी  रिलीज किया गया है I गौरतलब हो की हाल के ही कुछ महीनों में सारंग स्टूडियो प्रोडक्शन ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां देकर  प्रदेश में काफ़ी नाम कमा लिया है I प्रोडक्शन को नई दिशा निर्देशन सुशील गोगी  जोकि जाने माने संगीतकार हैँ द्वारा दी जाती है और इसका कार्यस्वरूप मोहित खुद संभालते हैँ वहीं  प्रोडक्शन का प्रबंधन अश्वनी शर्मा के अधीनस्थ है I अधि रोटी, चिठ्ठी मेरे सतगुरु, पारलिया धारा और हाल ही में आया लोकगीत “डाली कैंथे दी” लोगों को बहुत ही पसंद आ रहा है जिसके दस दिनों में ही व्यूज दो लाख के करीब होने जा रहे हैँ I “डाली कैंथे दी” की जो भी कमाई होंगी वे मुख्यमंत्री राहतकोष में कोरोना जैसी भयंकर बीमारी हेतु देने का फैसला मोहित ने किया है जोकि सराहनीय कदम है I

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।