मां चिंतपूर्णी मंदिर न्यास ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार को दिए पांच करोड़ रुपये
April 20th, 2020 | Post by :- | 127 Views

कोरोना वायरस की जंग से निपटने के लिए मंदिर न्यास चिंतपूर्णी ने भी अपना खजाना खोल दिया है। मंदिर न्यास ने सरकार को पांच करोड़ रुपये का योगदान देने का निर्णय लिया है। मंदिर आयुक्त एवं जिला उपायुक्त संदीप कुमार ने बताया है कि मंदिर न्यासियों ने इस आपदा की घड़ी में न्यास की तरफ से सरकार को आर्थिक योगदान देने के बारे में कहा था। जिस पर सरकार को अनुमति से अनुमति मांगी थी।

अब अनुमति मिलने के बाद जल्द ही राशि सरकार को कोरोना से लड़ाई लड़ने के लिए मुहैया करवा दी जाएगी। न्यासी राकेश समनोल, नरेंद्र कालिया और विजय सिंह ठाकुर ने कहा कि आपदा की इस घड़ी में मंदिर न्यास द्वारा यह सहायता राशि देना बिल्कुल उपयुक्त है।

गांव भटोली के नागरिकों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया 111111 रुपये का चेक

नजदीकी गांव भटोली के नागरिकों ने संयुक्त रूप से मुख्यमंत्री राहत कोष में 111111 का चेक पूर्व भाजपा अध्यक्ष सतपाल सत्ती को दिया। गांव के पूर्व प्रधान सतीश कुमार ने बताया कि गांव के सभी लोगों ने राहत कोष में योगदान अपने समर्थ के अनुसार दिया। उन्होंने क्षेत्र की सभी ग्राम पंचायतों से भी अनुरोध किया है कि वह भी जितना हो सके उतना मुख्यमंत्री कोष में दान दें।

स्विस गार्नियर कंपनी ने 2.19 लाख का ड्राफ्ट ग्रामीण विकास मंत्री को सौंपा

स्विस गार्नियर कंपनी मैहतपुर ने 219198 रुपये का चेक मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए हैं। राशि में 82,413 तथा 1,36,785 रुपये के दो डिमांड ड्राफ्ट मुख्यमंत्री राहत कोष में कंपनी के प्रतिनिधियों ने दोनों ड्राफ्ट ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर को प्रदान किए हैं। कहा कि कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में कंपनी की ओर से यह सहयोग राशि है। ग्रामीण विकास मंत्री ने उदारता के साथ आर्थिक सहयोग के लिए कंपनी का धन्यवाद किया। इस अवसर पर कंपनी की ओर से प्लांट हेड राजीव त्यागी, क्वालिटी हेड नरेंद्र तोमर, एचअार हेड प्रवीण कुमार, युद्धवीर राणा व वेटरी चेलवन मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।