कई बार बेचीं और खरीदी गई सरकारी भूमि, विभाग को खबर ही नहीं
September 26th, 2019 | Post by :- | 186 Views

पांवटा साहिब के वार्ड नंबर 10 में वार्ड के लोगो ने सरकारी भूमि की खरीद-फरोख्त के गंभीर आरोप सामने आए हैं। इस बारे में पीड़ितों ने उपायुक्त सिरमौर सहित तहसीलदार पांवटा को शिकायत सौंपी है पीड़ितों का कहना हे की उन्होंने इस बारे में कई बार शिकायत की हे पर अभी तक विभाग ने कोई भी कार्यवाई नहीं की हे पीड़ितों का कहना हे की चार महीने पहले भी उन्होंने शिकायत की थी पर विभाग ने कोई भी कार्यवाई नहीं की है ।

बता दे की पांवटा साहिब सरकारी भूमि कई बार खरीद-फरोख्त करने का हैरत अंगेज मामला सामने आया 1963-64 राजस्व विभाग में शरेआम यानी सभी के लिए खुला रास्ते को न केवल कई बार खरीदा बेचा जा चुका है बल्कि अब स्थिति यह है कि इस पर कब्जा जमाए वे लोग इस रास्ते को बंद करने पर अमादा है जबकि इस सरकारी भूमि पर पहले से ही आईपीएच का हैंडपंप और बिजली विभाग की लाइटें लगी हुई है।

स्थानीय शिकायतकर्ता नसीमा बेगम, रूहिना बेगम, समीना बेगम, रईसा बेगम, फरीदा बेगम आदि ने बताया कि गुलशेर और उसके परिवार ने सरकारी (शरेआम) भूमि जो कि 50 से 60 वर्ष पुराना रास्ता है।इस सरकारी दो बिस्वा भूमि को पहले अपने नाम करवाया गया और फिर आगे बेच दी गई।

इस दौरान सभी शिकायत कर्ता ने कहा हम इस सरकारी भूमि की खरीद-फरोख्त करने के मामले की जांच की मांग करते हैं और इसमें सम्मिलित विभागीय खामियों के लिए जिम्मेदार लोगों पर भी कार्रवाई की अपील की जाती है। वही इस बारे में नायाब तहसीलदार पांवटा साहिब इंद्रकुमार ने बताया कि उनके पास उपायुक्त सिरमौर से भी एक जांच आदेश आए हैं वहीं उन्हें भी महिलाओं ने इस शरेआम भूमि की खरीद-फरोख्त की शिकायत की है मामले की जांच की जा रही है जल्दी ही सामने आ जाएगा कि आखिर शरेआम भूमि की खरीद फरोख कैसे हो गई उन्होंने कहा की अगर सरकारी जमीन की खरीद फरहत गलत तरिके से हुई हे तो दोषियों के खिलाफ कार्यवाई की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।