सिरमौर जिला का मीरपुर कोटला गुरुद्वारा अब प्रशासन के अधीन #news4
March 15th, 2022 | Post by :- | 104 Views

नाहन : जिला सिरमौर के नाहन उपमंडल के मीरपुर कोटला स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा टोका साहिब को प्रशासन ने अपने अधीन कर लिया है। श्री गुरुद्वारा साहिब प्रबंधक कमेटी के चुनावों तक गुरुद्वारा की तमाम व्यवस्थाएं प्रशासन की देखरेख में की जाएंगी। जिला सिरमौर प्रशासन के द्वारा इसके लिए पंजीयक सहकारी सभाएं के जिला आडिट आफिसर रविंद्र जसवाल को प्रशासनिक अधिकारी नियुक्त किया है। श्री गुरुद्वारा टोका साहिब में होने वाले तमाम धार्मिक आयोजन सहित लंगर व तमाम लेन-देन आदि सरकार के माध्यम से ही किए जाएंगे। गौरतलब हो कि इस ऐतिहासिक गुरुद्वारा में पिछले करीब 1 वर्ष से प्रधान पद को लेकर दो पक्षों में तनातनी चली हुई है। दोनों गुटों में चल रहा विवाद अब काफी संवेदनशील स्थिति में पहुंच चुका था। किसी बड़ी अनहोनी के अंदेशे के चलते प्रशासन के द्वारा यह कदम उठाया गया है।

गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी को लेकर वर्तमान प्रधान महेंद्र सिंह तथा मास्टर जरनैल सिंह के गुट एक दूसरे पर गंभीर आरोप लगा रहे थे। एक ओर जहां मास्टर जरनैल सिंह गुट के द्वारा वर्तमान प्रधान को भ्रष्टाचारी बताया गया था, तो वही दूसरे गुट के द्वारा लाकडाउन के दौरान प्रोसीडिंग रजिस्टर गुरुद्वारा की मोहर आदि चुराकर फर्जी तरीके से प्रस्ताव पास कर वर्तमान प्रधान महेंद्र सिंह को बर्खास्त कर दिया गया था। यहां यह भी जानना जरूरी है कि उस दौरान प्रदेश सरकार के द्वारा तमाम धार्मिक संस्थान कोरोना के चलते बंद करवा दिए गए थे। बावजूद इसके गुरुद्वारा से प्रोसीडिंग रजिस्टर चुराकर चुपचाप प्रस्ताव पारित किया गया था। वर्तमान प्रधान जोगिंदर सिंह का आरोप था कि जिन लोगों को प्रोसीडिंग में शामिल किया गया था उनमें रामगोपाल, सुखपाल सिंह सहित जिसे प्रधान बनाया गया था।

करमजीत सिंह यह सभी कमेटी के मेंबर तक नहीं थे। दोनों गुटों में उपजा विवाद धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा था, जिसको लेकर प्रशासन के द्वारा श्री गुरुद्वारा टोका साहिब को चुनावों तक अपने अधीन कर लिया गया है। एसडीएम नाहन रजनेश कुमार के द्वारा इसकी पुष्टि भी की गई है। यही नहीं गुरुद्वारा साहिब में पुलिस का पहरा भी बिठा दिया गया है। प्रशासन द्वारा 1 माह के भीतर नई कार्यकारिणी का चुनाव कराकर गुरुद्वारे का प्रबंध उसे सौंप दिया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।