कोरोना के सामुदायिक फैलाव का हिमाचल में पहला मामला, मोबाइल कॉल डिटेल ने खोले राज
April 15th, 2020 | Post by :- | 310 Views

हिमाचल प्रदेश में पुलिस ने कोरोना के सामुदायिक फैलाव का पहला मामला पकड़ा है। इस संबंध में ऊना में हत्या प्रयास के दो अलग-अलग मामले दर्ज किए गए हैं। तब्लीगी जमात से जुड़े लाेगों के खिलाफ कड़ी कारवाई की गई है। यह कार्रवाई कुठेड़ा मस्जिद के मौलवी के बेटे की कॉल डिटेल रिपोर्ट यानी सीडीअार के आधार पर की गई। प्रदेश भर में 51 से अधिक लोगों के मोबाइल जब्त किए गए थे। डीजीपी एसआर मरडी ने कहा संक्रमण का मामला पुलिस ने खुद पकड़ा है।

पुलिस ने मौलवी के बेटे के मोबाइल की डिटेल के आधार पर तहकीकात की। कई लोगों से पूछताछ की। इसके संपर्क में अाए चार लोगों के टेेस्ट करवाए। इसमें से एक की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। चेतावनी के बावजूद पुलिस से सूचना छिपाई गई। इस हकरत को बर्दाश्त नहीं किया गया। डीलीपी ने इसे मूर्खतापूर्ण वाकया करार दिया। उन्होंने कहा हिमाचल में कोरोना के कुल 16 मामलों में से 15 तब्लीगियों से संबंधित व्यक्तियों के हैं।

लॉकडाउन या कफ्यू का उल्लंघन किया तो वीडियो बनाएगी पुलिस

अब अगर किसी ने भी कफ्यू का उल्लंघन किया या मास्क नहीं पहना तो पुलिस फोटो लेगी और वीडियो बनाया जाएगा। इसके लिए कांस्टेबल से लेकर सभी रैंक के पुलिस कर्मियों को अधिकृत किया गया है। पुलिस अब उल्लंघनकर्ताओं के साथ सख्ती बरतेगी। वह सरकार के लॉकडाउन के आदेशों की सख्ती के साथ पालना करवाएगी।

क्वारंटाइन नियम तोड़ा तो भी लगेंगी सख्त धाराएं

अगर किसी ने होम क्वारंटान या संस्थागत क्वारंटाइन के नियम को तोड़ा तो पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी। इनके खिलाफ सख्त धाराएं लगाई जाएंगी।

ठिकरी पहरे की देनी होगी सूचना

लोग अब गांवों में अकेले ठिकरी पहरा नहीं लगा सकेंगे। इसके लिए इन्हें पुलिस को सूचित करना होगा। लोगों कानून को अपने हाथ में नहीं ले पाएंगे। पुलिस की इजाजत के बगैर ऐसे पहरे लगाना लगाने की पाबंदी रहेगी।

ठगों से बचें

डीजीपी ने कहा कि वे ऑनलाइन ठगी से बचें। सतर्क रहें। किसी भी प्रकार की ईएमआई पेमेंट की एक्सटेंशन के लिए बैंकों के साथ ई- मेल से संपर्क करें। किसी प्रकार के लिंक पर आंख मूंद कर क्लिक न करें। ओपीटी कतई साझा न करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।