मौनी अमावस्या : 5 छोटे-छोटे काम, पितरों के लिए आजमाएं खास
January 19th, 2023 | Post by :- | 60 Views
इस बार मौनी अमावस्या 30 साल बाद बहुत ही दुर्लभ योग बन रहे हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, इस बार मौनी अमावस्या पर शनिवार होने के साथ शनि अमावस्या भी मानी जाएगी। 21 जनवरी 2023 के दिन रहेगी यह अमावस्या। इस अमावस्या के समय पितृदेव और श्री हरि विष्णु की पूजा के साथ ही सूर्य को अर्घ्‍य देने का भी महत्व है। आओ जानते हैं 5 ऐसे उपाय जो पितरों को करेंगे प्रसन्न।
1. तर्पण एवं पिंडदान : इस दिन नदी के तट पर दक्षिण दिशा में मुख करके जल में तिल मिलाकर विधिवत रूप में पितरों को तर्पण करें। यदि किसी पितृ का क्रिया कर्म अच्‍छे से नहीं हो पाया है तो उनकी मुक्ति होती पिंडदान करें। मौनी अमावस्या के दिन पितरों के निमित्त तर्पण, पिंडदान या श्राद्ध कर्म करने से पितर खुश होते हैं और सुख-समृद्धि, धन-दौलत और वंश वृद्धि और अपने वंशज को खुशहाल जीवन का आशीर्वाद देते हैं।
2. पीपल पूजा : इस दिन मौन व्रत रखने एवं पीपल का पूजन करना चाहिए, क्योंकि पीपल में सभी देवों का वास माना जाता है, अत: इस दिन पीपल वृक्ष के पूजन सभी तरह के पितरों का आशीर्वाद मिलता है और पापों से मुक्ति मिलती है। पीपल के पेड़ की 108 परिक्रमा करें और सफेद रंग की मिठाई अर्पित करें।
3. दान : मौनी अमावस्या के दिन अपने सामर्थ्य के अनुसार असहाय या गरीब को दान दें। मंदिर में सीधा दान (आटा, दाल, घी, अनाज, शक्कर, मिष्ठान) करेंगे तो जीवन के समस्त कष्ट दूर होते हैं। इस दिन गरीबों और जरूरतमंदों को कंबल, आंवला, तिल का तेल, तिल के लड्डू आदि का दान करें।
4. सूर्यदेव को अर्घ्य दें : इस दिन पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए। सूर्यदेव को जल चढ़ाते समय उसमें लाल फूल और काले तिल जरूर मिलाएं।
5. गाय, कौवे, कुत्ते और चींटियों को खिलाएं भोजन : इस दिन शनिदेव की पूजा के साथ ही उन्हें प्रसन्न करने के लिए गाय, कौवे और कुत्ते को भरपेट भोजन कराएं। इससे पितरों को भी शांति मिलेगी और वे आपको आशीर्वाद देंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।