लॉकडाउन में स्टूडेंट्स / बढ़ते तनाव और चिड़चिड़ेपन को दूर करने के लिए एनसीईआरटी की फ्री काउंसिलिंग शुरू
May 1st, 2020 | Post by :- | 275 Views

देशभर में लॉकडाउन से स्कूल-कॉलेज भी बंद हैं। इसकी मियाद लंबी होने से बच्चों के साथ पेरेंट्स में भी तनाव बढ़ रहा है। पेरेंट्स और स्टूडेंट्स अपनी परेशानी साझा कर सकें, तनाव कम हो, इसके लिए नेशनल काउंसिल फॉर एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एनसीईआरटी) ने टेलीफोनिक काउंसिलिंग शुरू की है। इसके तहत हर क्षेत्र में काउंसलर नियुक्त किए गए हैं। इनकी रीजन वाइज लिस्ट वेबसाइट ncert.nic.in पर उपलब्ध है। इस रीजन के कॉल लेने के लिए भोपाल की तीन काउंसलर्स किरण प्रजापति, मीनाक्षी त्रिपाठी और एस. बिंदु को जिम्मेदारी सौंपी गई है। यह टेलीफोनिक काउंसिलिंग पूरी तरह से फ्री है।

पेरेंट्स की आम शिकायत

काउंसर के पास एक पेरेंट का कॉल आया, जिनकी शिकायत थी कि बच्चा मोबाइल और टीवी का एडिक्ट हो गया है। ना 12वीं के एग्जाम की स्टडीज कर रहा है, न ही यह रिसर्च कर रहा है कि कौन से कॉलेज में जाना है। सिर्फ टीवी देखता है और नेटफ्लिक्स। डांटो तो चिढ़कर कमरा बंद कर लेता है। क्या करूं?

सॉल्यूशंस कुछ ऐसे हो सकते हैं

स्टूडेंट ने लक्ष्य तय किया है, बताना नहीं चाहता…

काउंसलर ने बच्चे से हॉबीज पूछीं, तो उसने बताया उसे खाना बनाना पसंद है। वह आईएचएम दिल्ली जाना चाहता है, उसे एंट्रेंस क्रैक करना है। दोनों से बात करके समझ में आया कि असल में पेरेंट्स और बच्चे के बीच में कम्युनिकेशन ही मिसिंग हो गया है।

स्टूडेंट्स दिन को हॉबीज के हिसाब से प्लान करें

अपने दिन को हॉबीज के हिसाब से प्लान करें। गान पसंद हैं, गाने रिकॉर्ड करें। कुकिंग पसंद हैं तो किचन में कुछ नया ट्राय करें, फिटनेस में मन लगता है तो एक्सरसाइज प्लान बनाएं। अगर मूवीज भी पसंद हैं, तो सिर्फ देखें नहीं, उन पर रिसर्च करें।

अपने बारे में 10 अच्छी और 10 खराब बातें लिखें

स्टूडेंट रोज अपने बारे में 10 अच्छे और 10 खराब प्वाइंट्स लिखें। धीरे-धीरे आपकी निगेटिविटी आपको पता होगी, तो अवेयर रहेंगे। टाइम वेस्ट या गुस्सा करना, जो भी निगेटिविटी है, उसका फेज आते ही आप इसे कंट्रोल करने के लिए अवेयर हो जाएंगे।

इन नंबरों पर कर सकते हैं कॉल

  • एस. बिंदु 9981605837 (शाम 5 से शाम 8 बजे तक)
  • किरण प्रजापति 9039202507 (दोपहर 12 से शाम 5 बजे तक)
  • मीनाक्षी त्रिपाठी 9752908017 (सुबह 10 से शाम 6 बजे तक)

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।