कोविड-19 के मामले बढ़ने पर घबराया चीन, संक्रमण रोकने के लिए मेडिकल टीम को रूसी सीमा पर भेजा
April 12th, 2020 | Post by :- | 218 Views

पड़ोसी देश से कोरोना वायरस संक्रमण के शिकार लोगों के आने के बढ़ते मामलों के बाद चीन ने रविवार (12 अप्रैल) को अपने पूर्वोत्तर शहर सुईफेन्हे में चिकित्सा विशेषज्ञों का एक दल भेजा है। सरकारी संवाद समिति शिन्हुआ ने शनिवार (11 अप्रैल) को कहा कि सुईफेन्हे में अब तक संक्रमण के 194 पुष्ट मामले और 100 से ज्यादा ऐसे रोगवाहक सामने आ चुके हैं जिनमें लक्षण नहीं दिख रहे हैं। इनमें अधिकांश चीनी नागरिक हैं जिन्होंने हाल के दिनों में सीमा पार की है। विशेषज्ञों का कहना है कि यह संख्या बढ़ सकती है।

चीनी रोग नियंत्रण एव रोकथाम (सीडीसी) केंद्र ने कहा कि बीजिंग से रविवार को 15 चिकित्सा विशेषज्ञों का एक दल सुईफेन्हे रवाना किया गया है जो चीन के हीलॉन्गजियांग प्रांत में चीन-रूस सीमा पर स्थित है। यह विशेषज्ञ बाहर से आए मामलों से निपटने में मदद करेंगे। शिन्हुआ की खबर के मुताबिक, राष्ट्रीय वायरल रोग नियंत्रण एवं रोकथाम संस्थान के विशेषज्ञों का यह प्रयोगशाला जांच में विशेषता रखता है और इसके साथ ही शहर में भेजे गए सीडीसी विशेषज्ञों की संख्या बढ़कर 22 हो जाएगी।

यह दल वहां पहुंचने पर एक प्रयोगशाला स्थापित करेगा जहां न्यूक्लीइक एसिड जांच और वैज्ञानिक शोध करने की सुविधा होगी। स्थानीय चिकित्सा दल के प्रमुख यू काईजियांग ने कहा, “आने वाले लोगों के हर जत्थे में कोविड-19 के मरीजों का अनुपात 10 से 20 प्रतिशत के बीच है जो बहुत ज्यादा है।” उन्होंने कहा, “कुछ जत्थों में यह अनुपात उससे भी ज्यादा है।” आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक अबतक कुल 2,497 लोग रूस से सुईफेन्हे आए हैं।

हीलॉन्गजियांग प्रांतीय स्वास्थ्य आयोग के उप निदेशक जी हॉन्ग ने कहा कि शहर में आने के साथ ही पृथकवास केंद्रों में रखे गए लोगों का हम तापमान ले रहे हैं और उन्होंने आशंका जताई कि आने वाले दिनों में मरीजों की संख्या और बढ़ सकती है। यू के मुताबिक गंभीर रूप से बीमार कोविड-19 के सभी मरीजों को रूस में बुखार और खांसी की शिकायत हुई थी और वे लंबा सफर करके यहां पहुंचे थे।

सुईफेन्हे सीमा पर एक प्रमुख केंद्र है और उसने अब अपने यात्री जांच केंद्र बंद कर दिए हैं माल निगरानी माध्यमों में भी चौकसी कड़ी कर दी है। इससे पहले, चीन में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 99 नए मामले सामने आए जो हाल के कुछ हफ्तों की तुलना में एक दिन में सामने आए मामलों के लिहाज से सबसे ज्यादा है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने शनिवार को यहां बताया कि 63 ऐसे मामले भी सामने आए जिनमें लक्षण नहीं थे जिसके बाद देश में कोविड-19 मरीजों की कुल संख्या 82,052 हो गई है। इसी के साथ देश में वैश्विक महामारी के फिर से भयावह होकर लौटने की चिंताएं बढ़ गई हैं।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) के मुताबिक शनिवार तक देश में 1,280 मामले ऐसे थे जो विदेशों से संक्रमित होकर आए हैं। इनमें से 481 को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 799 का अब भी इलाज चल रहा है जिसमें से 36 की स्थिति गंभीर बनी हुई है। आयोग ने बताया कि शनिवार को चीनी भूभाग से सामने आए 99 मामलों में से 97 वे हैं जो हाल में विदेश से लौटे हैं।

शनिवार (11 अप्रैल) को ही 63 ऐसे मामले भी सामने आए जिनमें संक्रमण की पुष्टि तो होती है, लेकिन लक्षण नजर नहीं आते। इनमें भी 12 ऐसे लोग हैं जो विदेशों से संक्रमित होकर लौटे हैं। एनएचसी ने कहा कि विदेशों से संक्रमण लेकर आए 332 लोगों समेत ऐसे 1,086 मामले अब भी चिकित्सीय निगरानी में हैं। वायरस के केंद्र हुबेई प्रांत और उसकी राजधानी वुहान में इसके प्रसार पर नियंत्रण पा लेने के बाद कोविड-19 मामलों का फिर बढ़ना चिंता का विषय बन गया है खासकर जब चीन ने पूरे देश में सामान्य गतिविधियों को बहाल करने की अनुमति दे दी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।