कोटा में फंसे विद्यार्थियों को लाने हिमाचल से नौ बसें रवाना, कल शाम तक पहुंचने की उम्मीद
April 24th, 2020 | Post by :- | 136 Views

हिमाचल सरकार ने राजस्थान के कोटा में फंसे प्रदेश के छात्रों को वापस लाने के लिए नौ बसें भेज दी हैं। हिमाचल पथ परिवहन निगम की नौ बसें 105 विद्यार्थियों को लाने के लिए शुक्रवार सुबह रवाना हुईं। कोटा में प्रदेशभर के छात्र पढ़ रहे हैं। परिवहन विभाग के निदेशक जेएम पठानिया का कहना हैै कोटा से हिमाचल के 105 विद्यार्थियों को पहले परवाणू, स्वारघाट व ऊना जैसे स्थानों पर रखेंगे। स्वास्थ्य जांच होने के बाद इन्हें संबंधित जिलों के उपयुक्त और स्वास्थ्य अथॉरिटी के हवाले करेंगे। जांच के बाद यही तय करेंगे कि यह छात्र अपने घर कब जाएंगे। शनिवार शाम तक बसें हिमाचल पहुंच जाएंगी।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कुछ दिन पहले ही कहा था कि उन्हें बाहर फंसे लोगों के काफी फोन आ रहे हैं। प्रदेश सरकार इस मामले में संवेदनशील है। हालांकि कोरोना महामारी का सामुदायिक फैलाव न हों, इस कारण उन्हें तत्काल वापस नहीं लाया जा सका। वीरवार को उन्होंने इसी मसले पर आला अफसरों से बैठक की और कोटा में फंसे छात्रों को वापस लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अगर छात्रों को वापस न लाया गया तो इससे अच्छा संदेश नहीं जाएगा। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार की तर्ज पर अफसरों को पुख्ता योजना तैयार करने को कहा। बैठक में तय हुआ कि छात्रों को एचआरटीसी की बसों में लाया जाएगा।

दिल्ली, चंडीगढ़ समेत कई शहरों हैं हिमाचली

कोटा के अलावा दिल्ली, चंडीगढ़ समेत देश के कई शहरों में हजारों हिमाचली फंसे हुए हैं। दिल्ली में फंसे लोग तो शातिर ठगों के भी शिकार हो रहे हैं। ठग उन्हें बसों से घर भिजवाने के नाम पर पैसे लूट रहे हैं। बैजनाथ निवासी की शिकायत पर शिमला में साइबर थाने में एफआइआर भी दर्ज हो चुकी है।

मुख्य सचिव अनिल खाची ने जारी किए आदेश

मुख्य सचिव अनिल खाची ने कोटा में फंसे हिमाचल के 105 छात्रों को लाने के लिए आदेश जारी किए हैं। इसके मुताबिक राज्य परिवहन प्राधिकरण के सचिव सुनील शर्मा शुक्रवार सुबह एचआरटीसी की नौ बसों के साथ कोटा रवाना होंगे। यह बसें वापस स्वारघाट, परवाणू और ऊना पहुंचेगी, जहां चिकित्सक सभी छात्रों और अभिभावकों के स्वास्थ्य की जांच करेंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।