Nizamuddin Corona Case हिमाचल में तब्लीगी जमात से जुड़े 257 लोगों की हुई पहचान, 15 FIR दर्ज
April 4th, 2020 | Post by :- | 253 Views

तब्लीगी जमात से जुड़े अब तक 257 लोगों की पहचान की गई है, इन सभी लोगों को क्वारंटाइन किया गया गया है। इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज होने की संख्या बढ़कर पंद्रह हो गई है। 15 मामलों में 41 लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुए हैं। डीजीपी एसआर मरडी ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कुछ लोगों को आगाह किया कि वे कानून को अपने हाथ में न लें। डीजीपी के मुताबिक कुछ लोग डॉक्टरों की सलाह नहीं मान रहे हैं। वे यह कह रहे हैं कि अल्लाह ही उन्हें बचाएगा या कुछ लोग कह रहे हैं कि उन्हें भगवान ही बचाएगा। ऐसे लोग सरकार के निर्देशों की उल्लंघना कर रहे हैं। इनके खिलाफ नियमों के तहत कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा सभी धर्मों के लोग भाईचारा बनाए रखें। एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी न करें। बद्दी में जिस महिला की कोरोना वायरस से मौत हुई है, उसके सभी स्वजनों को मेदांता अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया है। यह मौत पीजीआई चंडीगढ़ में हुई थी। डीजीपी ने कहा कि ड्रग्स की समस्या से निपटने के लिए इस वक्त स्वजन अपने बच्चों पर कड़ी नजर रखें। उनके बैंक खातों को वेरीफाई करें।

उन्हें घर से राशन के लिए भी बाहर नहीं निकलने दें। उनके बैग की तलाशी लें, क्योंकि बाहर जाकर वह कहीं से भी ड्रग ला सकते हैं। ऐसे में स्वजन पूरी तरह से सावधानी बरतें। उन्होंने कहा ड्रग्स की समस्या से निपटने के लिए सरकार की ही तरफ न देखें, बल्कि नागरिक भी अपना कर्तव्य निभाएं।

उन्होंने शिक्षकों का आह्वान किया कि वैसे समय में बच्चों के लिए अधिक से अधिक असाइनमेंट दें, ताकि वह घर पर पढ़ाई कर सकें और व्यस्त रह सकें। डीजीपी ने एक दफा फिर आह्वान किया है कि लोग शारीरिक दूरी का पालन जरूर करें। अगर युवा यह सोचते हैं कि उन्हें कोरोना नहीं होगा तो उनकी सोच गलत है। ऐसा सोचकर उन लोगों के खिलाफ अन्याय करे हैं, जिनकी रोग प्रतिरोधक शक्ति कम है। डीजीपी ने कहा वे प्रधानमंत्री के आह्वान की कतई आलोचना न करें, बल्कि उनके आह्वान को सकारात्मक तरीके से लें। उन्होंने कहा कल शाम 9:00 बजे 9 मिनट तक घरों में दीया या मोबाइल की टॉर्च जलाते वक्त सोशल डिस्टेंसिंग यानी शारीरिक दूरी का जरूर ख्याल रखें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।