क्षेत्र,जाति या वर्ग के नाम से नहीं बनेगी कोई नई रेजिमेंट:अजय भट्ट #news4
September 19th, 2022 | Post by :- | 50 Views

पालमपुर : भारत की सभी सैन्य रजिमेंट में देश को कोई भी व्यक्ति शामिल होकर देश की रक्षा कर सकता है। आजादी से पूर्व रेजिमेंटों के नामकरण किए गए थे। अब देश में किसी भी जाति, धर्म, वर्ग या क्षेत्र के नाम को कोई नई रेजिमेंट का नामकरण नहीं होगा। यह बात केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने आज पालमपुर मिलिट्री स्टेशन का दौरा करने के बाद अनौपचारिक हिमालयन रेजिमेंट की स्थापना के सवाल पर यह बात कही। उन्होंने कहा कि भारत के लिए वर्ग की बात है कि भारत एवं भारतीय सेवा आधुनिकीकरण की ओर लगातार बढ़ रही है। आत्मनिर्भरता को अपनाते हुए भारत सैन्य सामग्री को निर्यात करने की स्थिति में आ चुका है।

पहले भारत में सैन्य सामग्री का आयात किया जाता था, लेकिन अब भारत ने विदेशों में सैन्य सामग्री निर्यात हो रही है। उन्होंने कहा कि 2020 में हुए एक सर्वे के मुताबिक भारत विश्व में उन 25 देशों में शामिल हो चुका है जो सैन्य सामग्री को निर्यात कर रहा है। कोरोना काल में जहां पूरे विश्व की हालात खराब हुई है, वहीं भारत ने इस आपदा में भी विकास के अवसर ढूंढ़े। कोरोना से जहां हमारे पड़ोसी देश श्रीलंका और पाकिस्तान की खराब हालत सभी के सामने है। वहीं भारत ने ऐसी आपदा में भी इतने अच्छे से काम किया है कि एक साल तक भी अगर देश का कोई भी नागरिक काम न करे तो भारत के नागरिकों को भोजन और आवास समेत मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा सकती हैं।

यह सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व का परिणाम है, जिसका कारण तीसरी बार नरेंद्र मोदी नंबर एक प्रधानमंत्री बने हैं। इससे पूर्व उन्होंने पालमपुर मिलिट्री स्टेशन का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने सेना के जवानों को भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार रहने व हथियारों के ढाचांगत विकास की और आह्वान के लिए बताया ओर सशस्त्र बलों से उत्कृष्टता के लिए प्रयास करने और राष्ट्र निर्माण के लिए खुद को समर्पित करने का आग्रह किया। सैनिकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जब देश की आन बान शान के ऊपर बात आती है तो आप सबकुछ भूलकर सिर्फ तिरंगे को याद रखते है ओर देश को से बचाते है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जल थल ओर नभ में देश बहुत मजबूत होकर उभरा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।