हिमाचल देवभूमि ही नहीं वीरभूमि भी है : राकेश पठानिया #news4
December 16th, 2021 | Post by :- | 100 Views

नूरपुर : वन, युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री राकेश पठानिया ने आज वीरवार को अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद, हिमाचल प्रदेश द्वारा राणा फार्म बौड़ (नूरपुर) में विजय दिवस की 50वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। इस मौके पर एसडीएम अनिल भारद्वाज, डीएफओ विकल्प यादव, डीएसपी सुरेंद्र शर्मा, अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद के अध्यक्ष कर्नल डीएस मनकोटिया विशेष रूप से उपस्थित रहे। वन मंत्री राकेश पठानिया ने कहा कि आज का दिन देश के जवानों की वीरता, शौर्य, अदम्य साहस और कुर्बानी की कहानी को बयां करता है। 1971 की ऐतिहासिक जीत की खुशी आज भी हर देशवासी के मन को उमंग से भर देती है। प्रदेश का इतिहास पराक्रम, शौर्य और बलिदान से ओत-प्रोत रहा है। प्रदेश देवभूमि के साथ वीरभूमि भी है। हिमाचल गौरवान्वित है कि आजादी से पहले और बाद में देश ने जितने भी युद्ध लड़े हैं उनमें मां भारती के वीर जवानों ने देश का सिर गर्व से ऊंचा किया है।

वन मंत्री ने कहा कि आज भारत एक सशक्त राष्ट्र बन चुका है। भारत की सेना का दुनिया में लोहा माना जाता है। केंद्र तथा प्रदेश सरकार पूर्व सैनिकों तथा उनके परिवारों के साथ हमेशा खड़ी है। तमिलनाडु के कुन्नूर में हेलीकॉप्टर हादसे में शहीद हुए सीडीएस जनरल विपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत तथा अन्य सैन्य अधिकारियों और मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों को नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी गई व उनकी याद में मौन रखा गया। उन्होंने हेलीकॉप्टर हादसे में कांगड़ा जिला के शहीद लेंस नाईक विवेक कुमार को भी अपनी श्रद्धांजलि दी।

उन्होंने विभिन्न युद्धों में भाग ले चुके सैनिकों व वीर योद्धाओं तथा वरिष्ठ पूर्व सैनिकों को भी सम्मानित किया। इस मौके पर परमवीर चक्र विजेताओं की स्मृति में आयोजित करवाई गई क्रिकेट प्रतियोगिता की विजेता टीमों को भी सम्मानित किया गया। इस मौके पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा मेडिकल कैंप भी लगाया गया। जिसमें लोगों का चेकअप करने के साथ मुफ्त में दवाइयां दी गईं। इस अवसर पर सूचना एवं जनसंपर्क विभाग से सम्बद्ध कलाकारों, वीवीएम नर्सिंग कॉलेज, नूरपूर तथा अन्य स्कूली छात्राओं द्वारा देश भक्ति व सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।