जोनल अस्पताल धर्मशाला में अब QR Code से करें ऑनलाइन OPD बुकिंग #news4
September 6th, 2022 | Post by :- | 81 Views

धर्मशाला : जिला मुख्यालय धर्मशाला में अब क्यूआर कोड से भी ऑनलाइन ओपीडी बुकिंग की जा सकती है। मरीजों की सुविधा के लिए अस्पताल प्रशासन ने यह पहल की है। इसके अतिरिक्त अस्पताल में होने वाले टेस्ट और मेडिकल सर्टिफिकेट शुल्क की एवज में होने वाले भुगतान के लिए भी मरीज या उनके तीमारदार क्यूआर कोर्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं, साथ ही अस्पताल प्रशासन यह भी व्यवस्था करने जा रहा है कि एटीएम भी स्वीकार्य हों, इसके लिए एक बैंक से बैठक की जा चुकी है।

डीसी कांगड़ा ने की थी ओएएस की शुरूआत
जोनल अस्पताल में 6 अगस्त को डीसी कांगड़ा ने ऑनलाइन अप्वाइंटमैंट सिस्टम (ओएएस) की शुरूआत की थी। हालांकि प्रतिदिन 6 स्लॉट ऑनलाइन ओपीडी बुकिंग के लिए उपलब्ध थे लेकिन तब से लेकर अब तक ओएएस की ओर लोगों का रुझान नजर नहीं आ रहा था। प्रतिदिन इक्का-दुक्का मरीज ही ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट सिस्टम का लाभ उठा रहे थे, ऐसे में अस्पताल प्रशासन इस सेवा का प्रचार-प्रसार भी कर रहा है, जिससे अधिक से अधिक मरीज इस सुविधा का लाभ उठा सकें। इसके अतिरिक्त अस्पताल में आने वाले मरीजों व उनके तीमारदारों को किसी भी प्रकार के टैस्ट व विभिन्न प्रकार के उपचार की एवज में भुगतान भी क्यूआर कोड के माध्यम से किया जा सकेगा। यह सुविधा भी अस्पताल में उपलब्ध होगी। गौरतलब है कि धर्मशाला व आसपास के क्षेत्रों में ऐसे मरीज भी हैं जो कि सीनियर सिटीजन हैं और लाइन में खड़े नहीं हो सकते, ऐसे मरीजों की सुविधा के लिए ओएएस की शुरूआत की गई थी, वहीं अब इसमें क्यूआर कोड की सुविधा भी उपलब्ध करवा दी गई है।

क्या बोले अस्पताल के एसएमएस
सीनियर मेडिकल सुपरींटैंडैंट जोनल अस्पताल धर्मशाला डॉ. राजेश गुलेरी ने बताया कि अस्पताल में ऑनलाइन ओपीडी बुकिंग की सुविधा का लाभ अब मरीज या उनके तीमारदार क्यूआर कोड से भी उठा सकते हैं। ऑनलाइन ओपीडी बुकिंग सुविधा एक माह पहले शुरू की गई थी, जिसका व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। यही नहीं अस्पताल में मरीजों द्वारा किए टैस्ट या मेडिकल सर्टिफिकेट फीस की एवज में किए जाने भुगतान के लिए भी एटीएम और क्यूआर कोड का प्रयोग किया जा सकेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।