हिमाचल में अब डाॅक्टरों के नहीं हाेंगे कैंपस इंटरव्यू, कमीशन व बैचवाइज होंगी भर्तियां #news4
May 7th, 2022 | Post by :- | 120 Views

शिमला : प्रदेश में सरकारी मेडिकल कालेज में पढ़ने वाले बच्चों के लिए अब कैंपस इंटरव्यू नहीं होंगे। राज्य में डाॅक्टरों की भर्तियां वॉक-इन-इंटरव्यू, कमीशन से होने वाले टैस्ट या बैच वाइज आधार पर ही की जाएंगी। सरकार ने इस प्रक्रिया में बदलाव किया है। इसके तहत मेडिकल काॅलेजों से पासआऊट होने वाले इंटर्न डाॅक्टरों के लिए कैंपस इंटरव्यू नहीं होंगे। इस साल मैडीकल कालेजों से पासआऊट 300 डाक्टर नियुक्ति का इंतजार कर रहे हैं। प्रदेश में 2411 मेडिकल ऑफिसर का कार्यकाल पूरा हो चुका है। इस बार बजट में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 500 डाॅक्टरों के पद इस काडर में जोड़ने की घोषणा की थी। 144 नए मेडिकल ऑफिसर पद भरने की मंजूरी भी मिल गई लेकिन इन नए 144 डाॅक्टरों के पदों को वॉक-इन-इंटरव्यू के आधार पर ही भरा जाना है। अभी वॉक-इन-इंटरव्यू की तिथियां अभी तय नहीं हुई हैं लेकिन विभाग जल्द ही इन तिथियों को तय कर देगा।

डाॅक्टर भी करेंगे बैचवाइज नौकरी लगने का इंतजार
स्वास्थ्य विभाग का पैरामैडीकल स्टाफ, नर्सिज, फार्मासिस्ट, शिक्षा विभाग में जेबीटी, सी एंड वी, टीजीटी बैच वाइज जिस तरह नौकरी लगने के लिए वर्षों तक इंतजार करते हैं। अब वैसे ही डाॅक्टरों को भी नौकरी लगने के लिए बैचवाइज भर्ती का इंतजार करना होगा।

इंटर्न डॉक्टर वॉक-इन-इंटरव्यू के खिलाफ   
इंटर्न डाॅक्टर वॉक-इन-इंटरव्यू के खिलाफ हैं। वह सरकार से मेडिकल काॅलेजों से पासआऊट डाॅक्टरों के लिए कैंपस इंटरव्यू की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि वॉक इन इंटरव्यू में बाहरी राज्यों के डाक्टर भी भाग लेंगे, जिससे प्रदेश के पर्याप्त डाॅक्टरों को इस भर्ती में मौका नहीं मिलेगा। इसी मांग को लेकर बीते दिनों इंटर्न डाक्टरों ने आईजीएमसी में रोष प्रदर्शन भी किया था।

मेडिकल ऑफिसर का कार्यकाल हो चुका पूरा : पांडा
स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव शुभाशीष पांडा का कहना है कि मेडिकल ऑफिसर का कार्यकाल पूरा हो चुका है, ऐसे में अब कैंपस इंटरव्यू नहीं होंगे। जो भी नई भर्तियां होंगी, वह वॉक-इन-इंटरव्यू या कमीशन या फिर बैचवाइज आधार पर करवाई जाएंगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।