अब आम आदमी की भूख को ही बीजेपी ने बनाया कमाई का जरिया : राणा #news4
July 18th, 2022 | Post by :- | 49 Views

हमीरपुर: हर चुनाव से पहले झूठे वायदे व कोरी घोषणाएं करके सत्ता हासिल करने वाली बीजेपी अपने हर वायदे से मुकरी है। तरह-तरह के टैक्सों को कमाई का जरिया मान चुकी सरकार ने अब देश की 85 फीसदी जनता की भूख पर जीएसटी का जबरन जजिया थोप दिया है। पहले से महंगाई की मार से बिलबिला रही जनता की मुश्किलें अब और बढ़ेंगी। यह बात प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने यहां जारी प्रेस बयान में कही है। राणा ने कहा कि बीजेपी के इस कारनामे से अब आटा करीब 150 रुपए व चावल 400 रुपए प्रति क्विंटल महंगे होंगे। राणा ने कहा कि आजाद भारत के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि किसी सरकार ने 85 फीसदी जनता की भूख पर जीएसटी का जजिया जड़ा है। राणा ने कहा कि जनता के प्रति हर तरह से संवेदनहीन हो चुकी बीजेपी सरकार ने देश की जनता की गरीबी को ही अब कमाई का जरिया बना लिया है। आजादी के बाद 75 वर्ष में पहली बार अनाज व चावल के साथ गेहूं, मैदा, सूजी, दहीं, छाछ, सरसों व अन्य प्री-पैक्ड अनाज पर 5 फीसदी जीएसटी जजिया सोमवार 18 जुलाई से लागू कर दिया है। केंद्र सरकार की संवेदनहीन हो चुकी बीजेपी के इस तुगलकी फरमान से अब हर घर से बजट बिगड़ेगा।

घरेलु गैस सिलैंडर के दाम पहले से ही आसमान छू रहे हैं और अब आटा, चावल और दाल के दाम बढऩे से देश की जनता को महंगाई और मार मारेगी।  उन्होंने कहा कि उन्हें कई घरेलु चक्कियों व फ्लोर मिलों के संचालकों ने बताया कि अब आटे का थोक रेट 3 हजार प्रति क्विंटल के आसपास हो जाएगा। जबकि अन्य दुकानदारों के मुताबिक देश के 85 फीसदी घरों में 70 से 80 किस्म के सामान अन-ब्रांडेड प्रयोग किए जाते हैं। जिनके दाम सस्ता होने के कारण आम आदमी खरीदता है। आम आदमी के सामानों की खरीद पर अब लगभग हर घर पर 2 से अढ़ाई हजार रुपए का अतिरिक्त बजट बढ़ जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार की जनता के प्रति संवेदनहीनता से बता रही है कि सरकार को सिर्फ सत्ता और राज से वास्ता है। आम आदमी के हकों और हितों से सरकार का कुछ लेना-देना नहीं है। राणा ने प्रदेश की जनता से आह्वान किया है कि महंगाई से बचने व तानाशाह बीजेपी से छुटकारा पाने के लिए जनता एकजुट हो ताकि जनता की जेब को कमाई का जरिया बना चुकी बीजेपी सरकार का सूपड़ा साफ हो सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।