निजामुद्दीन के आसपास गए लोगों का आंकड़ा बढ़ा, हिमाचल में 190 की पहचान; मस्जिदों में नमाज पर रोक
April 2nd, 2020 | Post by :- | 238 Views

हिमाचल प्रदेश में मस्जिदों में कफ्यू और लॉकडाउन के दौरान नमाज पढ़ने पर पुलिस ने रोक लगा दी है। अब मुस्लिम समुदाय से जुड़े लोगों को नमाज घरों में ही पढ़नी होगी। अगर मस्जिदों में पढ़ी तो इसे सरकार के आदेश का उल्लंघन माना जाएगा और उल्लघंन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी। डीजीपी एसआर मरडी ने कहा लॉकडाउन का वैज्ञानिक आधार है और वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने का प्रावधान हमारे संविधान में भी है। उन्होंने कहा पुलिस सभी धर्मों को सम्मान करती है, लेकिन कोरोना के बढ़ते खतरे को देखतेे हुए सभी धर्मों के लोग लॉकडाउन का पालन करें।

दिल्ली में निजामुद्दीन और इसके आसपास जिन हिमाचली लोगों की टाॅवर लोकेशन आई है, उनकी संख्या और बढ़ गई है। पहले यह 701 थी। अब 840 हो गई है। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। इसमें से कई नौकररीपेशा लोग भी बताए जा रहेे हैं। ये लोग तब्लीगी जमात से जुड़े हैं। राज्य सरकार इस सिलसिले में केंद्र सरकार के साथ लगातार संपर्क में हैं।

ज्यादा समय तक रखनी होगी शारीरिक दूरी

डीजीपी ने कहा कि शारीरिक दूरी ज्यादा समय के लिए जारी रखनी पड़ सकती है। लोग ये मान कर चलें कि ये 14 अप्रैल के बाद भी जारी रहेगी। इस कारण लोग हालत का मुस्करा कर सावधानीपूर्वक मुकाबला करें।

23 और लोगों की पहचान

राज्य पुलिस ने दिल्ली से हिमाचल आए 23 और लोगों की पहचान कर ली है। इससे पहले 167 लोगों की पहचान की गई थी। यह आंकड़ा बढ़कर 190 हो गया है। पहचान करने के लिए पुलिस ने प्रदेशभर में मस्जिदों में निगरानी बढ़ा दी है। इन मुस्लिम लोगों को क्वारंटाइन पर रखा गया है, जबकि 17 लोग दिल्ली में ही क्वारंटाइन किए गए हैं। डीजीपी के अनुसार इनमें काेरोना के लक्षण नहीं पाए गए हैं। उन्होंने कहा कि नेरवा में पकड़े गए 11 लोग दिल्ली से नहीं पांवटा के मिस्र्रवाला से आए थे।

24 घंटाें में उल्लंघन के कितने मामले

पिछले 24 घंटाें के दौरान प्रदेश में कफ्यू और लॉकडाउन उल्लंघन के 46 मामले दर्ज किए हैं। इसके आरोप में 29 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अब तक कुल 328 मामजे दर्ज किए गए हैं। जबकि 344 लोगों की गिरफ्तारी की गई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।