आरटीआई के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखें अधिकारी: डीसी
August 29th, 2019 | Post by :- | 174 Views

ऊना, 28 अगस्त: गगरेट के बीडीओ ऑफिस में आरटीआई पर पीआईओ और एपीआईओ के लिए एक कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने की। कार्यशाला में डीसी ने कहा कि सभी सरकारी कर्मचारी आरटीआई के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखें। उन्होंने कहा कि सुशासन व सरकारी तंत्र में पारदर्शिता के लिए आरटीआई एक्ट एक महत्वपूर्ण कदम है। यह भष्टाचार रोकने में कारगर सिद्ध हो रहा है। उन्होंने अधिकारियों और कर्मचारियों से कहा कि आरटीआई में मांगी गई सूचना नियमों को ध्यान में रखते हुए उपलब्ध करवाएं। उन्होंने कहा कि सभी पीआईओ और एपीआईओ को इस एक्ट के महत्वपूर्ण प्रावधानों की पूर्ण जानकारी होनी चाहिए।
डीसी ने बताया कि आरटीआई एक्ट को राष्ट्रपति ने 15 जून 2005 को मंजूरी दी थी। इसके बाद यह कानून जमू कश्मार को छोडक़र पूरे देश में लागू हुआ।
उन्होंने बताया कि आरटीआई एक्ट के तहत जनसूचना अधिकारी को 30 दिन की अवधि के भीतर मांगी गई सूुचना देना लाजमी है जबकि सूचना से संतुष्ट न होने पर प्रार्थी अपील अधिकारी के पास अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है। तदोपरान्त सही सूचना न मिलने पर 90 दिन के भीतर मामले को सूचना आयोग में ले जाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि समय पर सूचना न देने वाले अधिकारी को प्रतिदिन 250 रूपये तथा अधिकतम 25 हजार रूपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। उन्होने बताया कि सूचना पाने वाले व्यक्ति को आवेदन पत्र के साथ 10 रूपये का पोस्टल ऑर्डर देना लाजमी है जबकि बीपीएल परिवार से संबंधित व्यक्ति को फीस से छूट है।
उन्होंने सभी जन सूचना अधिकारियों से अपने कार्यालयों में मौजूद सूचना के रिकॉर्ड के बेहतर प्रबंधन पर बल दिया ताकि सूचना देने की स्थिति में दिक्कतों का सामना न करना पड़े। साथ ही कहा कि प्रार्थी को वही सूचना उपलब्ध करवाई जाए जो उनके पास उपलब्ध है तथा मनघडंत सूचना देने से अधिकारियों को बचना चाहिए।
इस अवसर पर एसडीएम अंब तोरूल एस रवीश, बीडीओ अंब हेमचंद शर्मा सहित विकास खंड अंब से संबंधित विभिन्न सरकारी कार्यालयों से पीआईओ और एपीआईओ उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।