जीएसटी पंजीकरण में बेहतर प्रदर्शन पर सम्मानित होंगे अधिकारी : जयराम
December 23rd, 2019 | Post by :- | 170 Views

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल में जीएसटी पंजीकरण और कलेक्शन में बेहतर प्रदर्शन करने वाले अधिकारी सम्मानित किए जाएंगे। लक्ष्य पूरा करने में विफल रहने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी। सीएम ने अधिकारियों को चेतावनी दी कि जीएसटी संग्रहण की निगरानी उच्च स्तर पर हो रही है। इसमें किसी तरह की कोताही नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री सोमवार को उपायुक्त कार्यालय सभागार मंडी में जीएसटी की समीक्षा बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि आबकारी और कराधान विभाग के अधिकारियों को जीएसटी संग्रहण के लिए सक्रिय दृष्टिकोण अपनाना चाहिए। उन्होंने जीएसटी के तहत कम से कम 95 प्रतिशत पंजीकरण सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। कहा कि फील्ड अधिकारियों को अपने अधिकार क्षेत्र में सर्कल से मुख्यालय स्तर तक 200 शीर्ष करदाताओं की बारीकी से निगरानी करनी चाहिए। आबकारी एवं कराधान विभाग के राज्य आयुक्त अजय शर्मा ने कर संग्रहण को सरकार की पहल पर प्रस्तुति दी। कहा कि प्रदेश को अब तक 1241 करोड़ की जीएसटी प्रतिपूर्ति हुई है। जीएसटी प्रतिपूर्ति के साथ कुल 5788 करोड़ की उपलब्धि हासिल की गई है।

दोहरा पंजीकरण होगा रद्द

सीएम ने कहा कि उन करदाताओं का पंजीकरण रद्द किया जाना चाहिए, जिन्होंने दोहरा पंजीकरण करवाया है। उन ठेकेदारों का पंजीकरण भी रद्द करवाने के निर्देश दिए, जिन्होंने जीएसटी लागू होने के समय खुद को पंजीकृत करवाया था और अब निष्क्रिय हो गए हैं। विभाग के पुनर्गठन और इन हाउस प्रशिक्षण केंद्रों की स्थापना की संभावनाएं ढूंढने के साथ कर अधिकारियों के क्षमता निर्माण को राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन के अवसर दिए जाने चाहिए। केंद्र के दायरे में आने वाले उन करदाताओं का मामला केंद्रीय जीएसटी आयुक्त के समक्ष उठाने के निर्देश दिए, जो रिटर्न नहीं भर रहे हैं।

नए करदाताओं के लिए उठाएं उचित कदम
आबकारी एवं कराधान विभाग के प्रधान सचिव संजय कुंडू ने कहा कि जीएसटी और कर संग्रहण देश में आर्थिक मंदी का सामना करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। आर्थिक निगरानी इकाई को मजबूत करने के लिए एनआईएससीआई से सलाहकार नियुक्त किए गए हैं। नई सेवाओं के नए करदाताओं के लिए उचित कदम उठाए जाने चाहिए। ठेकेदारों, खनन, खनन हार्डवेयर आदि को विशेष रूप से केंद्रित किया जाना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।