तब्लीगी जमात में शामिल होने की सूचना पर प्रशासन ने दी दबिश तो मस्जिद में एक साथ छिपे मिले 12 लोग
April 1st, 2020 | Post by :- | 192 Views

दिल्ली में निमाजुद्दीन की मरकज में तब्लीगी जमात में हिमाचल प्रदेश के कुछ लोगाें के शामिल होने की सूचना के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में हैं। बुधवार सुबह से ही पूरा प्रशासनिक अमला बददी, बरोटीवाला तथा नालागढ़ (बीबीएन) में मुस्लिम धार्मिक स्थलों के सर्च अभियान में जुटा हुआ नजर आया। सुबह करीब 11:30 बजे थाना पंचायत के भूपनगर गांव की मस्जिद से एक ही स्थान पर 12 मुस्लिम लोगाें को डिटेन किया गया। यह मस्जिद गांव के बीचों-बीच बनी हुई है। प्रशासन को सूचना मिली थी कि यहां से भी कुछ लोग बीती 25 फरवरी को दिल्ली में तब्लीगी जमात की मरकज में शामिल होकर लौटे हैं।

बद्दी के तहसीलदार मुकेश शर्मा की अगुवाई में टीम ने मुस्लिम धार्मिक स्थल पर पहुंचकर वस्तुस्थिति जानी। उक्त मस्जिद के मौलवी मोहम्मद साजिद ने बताया हमने यहां आने वाले सभी लोगों की सूचना नालागढ़ के थाना प्रभारी को दे दी है, जबकि मौके पर पहुंची जिला प्रशासन की टीम ने वहां 10 से 12 लोगों को एक साथ ठहरे हुए पाया। इसके अलावा कालका तहसील की बाढ़ गोदाम पंचायत में डोलना गांव से भी 12 मुस्लिम एक ही स्थान से रेस्क्यू किए गए हैं। भूपनगर स्थित मस्जिद में रेस्क्यू किए गए लोगों ने बताया कि वह लॉकडाउन की वजह से यहीं फंस गए थे। उन्होंने बताया कि यहां से कोई भी मुस्लिम तब्लीगी जमात की मरकज में शामिल होने नहीं गया था, न ही कोई वहां से आकर यहां ठहरा है।

तहसीलदार मुकेश शर्मा ने इन सभी लोगों को एचआरटीसी की बस के जरिये नालागढ़ स्थित क्वारंटाइन सेंटर भेज दिया है। तहसीलदार मुकेश शर्मा ने बताया कि पूरे बीबीएन क्षेत्र में सर्च अभियान चलाया गया है। इस दौरान सभी मस्जिदों की तलाशी लेकर जानकारी ली जा रही है। उन्होंने बताया जिन मस्जिदों में ज्यादा लोग पाए गए हैं, उन्हें नालागढ़ स्थित क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया है।

उन्होंने कहा कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण यह एहतियातन कदम उठाया गया है। उन्होंने कहा कि इन सभी लोगों का नालागढ़ के अस्पताल में स्वास्थ्य जांचा जाएगा। इसके बाद इन्हें 14 दिन के लिए क्वारंटाइन किया जाएगा। इस दौरान उनके साथ कानूनगो धर्मपाल चौधरी, एसआई रमेश ठाकुर, तरसेम सिंह, राजीव जोशी शामिल रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।