हिमाचल विस शीत सत्र: सदन में विपक्ष ने पहनीं प्याज की मालाएं, हंगामे के बीच किया वॉकआउट
December 10th, 2019 | Post by :- | 112 Views

हिमाचल विधानसभा के शीत सत्र के दूसरे दिन भी विपक्ष ने खूब हंगामा किया। पहले दिन इन्वेस्टर्स मीट तो दूसरे दिन प्याज की बढ़ती कीमतों पर सत्तापक्ष को घेरा। नोकझोंक और हंगामे के बीच कांग्रेस विधायक पहले वेल में चले गए और फिर प्याज की मालाएं पहनीं और पोस्टर लहराए। इसके बाद वॉकआउट कर सदन से बाहर चले गए। दोपहर के भोजन के बाद भी सदन बिना विपक्ष के चला।  सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले ही नेता प्रतिपक्ष ने इन्वेस्टर्स मीट पर मांगी काम रोको प्रस्ताव की चर्चा को नामंजूर करने और इसका विषय बदलकर नियम 130 में चर्चा रखने का विरोध किया। सत्तापक्ष के विधायक राकेश पठानिया खड़े होकर उन पर पलटवार करते रहे। बीच में मुख्यमंत्री भी गुस्से में मुकेश अग्निहोत्री पर पलटवार करने लगे। मुकेश के साथ कांग्रेस विधायक हर्षवर्धन चौहान और आशा कुमारी भी आक्रामक दिखीं।

कांग्रेस विधायक वेल में चले गए। वहां चेयर को घेरकर नारेबाजी करते रहे और तालियां बजाते रहे। इसके बाद विपक्षी विधायक प्याज की मालाएं पहनकर इन्वेस्टर्स मीट, महंगाई आदि मुद्दों के पोस्टर लहराते रहे। विधानसभा अध्यक्ष राजीव बिंदल की ओर से बार-बार व्यवस्था की बात करने पर भी विपक्ष ने हंगामा खत्म नहीं किया। विस अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने सभी सदस्यों को अवसर देने का प्रयास किया है।

इन्वेस्टर्स मीट पर नियम 67 में दिया नोटिस खत्म हो गया है। जो विषय नेता प्रतिपक्ष ने उठाया, उसके बारे में अन्य नेताओं ने नियम 130 में मिलते-जुलते विषय दिए हैं, जिन पर चर्चा होगी। हंगामे के बीच विस अध्यक्ष को प्रश्नकाल की घोषणा करनी पड़ी। इसके बाद मुख्यमंत्री और मंत्री शोर-शराबे में केवल सत्तापक्ष के विधायकों के सवालों के जवाब देते रहे। 11:40 बजे सभी कांग्रेस विधायकों ने वाकआउट कर दिया। विपक्षी विधायकों ने विधानसभा परिसर में सरकार के खिलाफ नारेबाजी जारी रखी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।