पंचायत प्रधानों, पंचायत सचिवों ने नहीं दी सूचना तो होगी कार्रवाई : DC Kangra
April 14th, 2020 | Post by :- | 128 Views

धर्मशाला, 14 अप्रैल। उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कांगड़ा जिला में बाहरी राज्यों तथा जिलों से लोगों की आवाजाही पर पूर्णतयः रोक है तथा सभी उपमंडलाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि कर्फ्यू पास भी पूरी जांच पड़ताल के बाद विशेष आपात स्थितियों में ही जारी किया जाए। इसमें पीजीआई या अन्य अस्पतालों में उपचार के लिए जाने वाले लोगों को अपने बारे में पूरी जानकारी देनी होगी तथा उसके पश्चात प्रशासन जांच पड़ताल करवाएगा इसी तरह से किसी की मृत्यु या अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए केवल परिवार के सदस्य को ही कर्फ्यू पास दिया जाएगा।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि अन्य जिलों या बाहरी प्रदेशों से कर्फ्यू पास लेकर आने वाले लोगों के बारे में भी पूरी जांच पड़ताल करने के निर्देश दिए गए हैं अगर कर्फ्यू पास बेवजह दिया होगा तो उन सभी नागरिकों को भी सीमांत क्षेत्रों में ही 28 दिन के लिए क्वारंटीन कर दिया जाएगा। ऐसे ही जम्मू से आए चार लोगों को कांगड़ा जिला में क्वारंटीन भी किया गया है।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि नागरिकों से बार-बार एक ही आग्रह किया जा रहा है जो जहां है वो वहीं पर रहे। लोगों को अपने घरों में रहते हुए उचित सामाजिक दूरी के साथ परिवार तथा समाज को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने में सहयोग सुनिश्चित करना चाहिए।

पंचायत प्रधानों, पंचायत सचिवों ने नहीं दी सूचना तो होगी कार्रवाई

विदेशों तथा अन्य राज्यों व तब्लीगी जमात से लौटे नागरिकों के बारे में ग्रामीण स्तर पर पंचायत प्रधान, पंचायत सचिवों को टोल फ्री नंबर 1077 पर या संबंधित एसडीएम के पास जानकारी देना अनिवार्य होगा। इस बाबत अगर जानकारी संबंधित पंचायत प्रधान और पंचायत सचिव द्वारा नहीं दी गई और जिला प्रशासन को किसी अन्य स्रोत से विदेश या अन्य राज्यों, तब्लीगी जमात से लौटे व्यक्तियों के बारे में सूचना मिलने पर पंचायत प्रधानों तथा पंचायत सचिवों के खिलाफ सूचना न देने तथा जानकारी छिपाने पर एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी। इसी तरह से शहरी क्षेत्रों में नगर निगम, नगर परिषद तथा नगर पंचायतों के प्रशासनिक मुखिया तथा वार्ड मंेबर्स को विदेशों तथा अन्य राज्यों व तब्लीगी जमात से लौटे नागरिकों के बारे जानकारी देनी होगी तथा जानकारी नहीं देने पर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज होगी। उपायुक्त ने कहा कि तब्लीगी जमात से लौटे व्यक्तियों को अपने बारे में सूचना देने की अपील की थी और इसकी समयावधि पूरी हो चुकी है। उन्होंने कहा कि अगर अब तब्लीगी जमात से लौटे जिस भी नागरिक की पहचान हो जाएगी उसके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

कांगड़ा जिला में कोरोना का कोई पॉजिटिव मामला नहींः
कांगड़ा जिला में अब कोई कोरोना का पॉजिटिव मामला नहीं है तथा मंगलवार को जिला के विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों से 18 सेंपल जांच के लिए टांडा भेजे गए हैं। आईसोलेशन सेंटर छेब में पांच लोग निगरानी में रखे गए हैं।
जिला में आवश्यक खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति:
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने बताया कि 14 अप्रैल को कांगड़ा जिला में 89 गाडि़यां दूध की, 231 सब्जियों के वाहन, 32 वाहन ब्रेड के, अनाज की 306 गाडि़यों मेडिसन की 44 वाहनों द्वारा आपूर्ति की गई है। खाद्य निगम के गोदामों में दो महीने के राशन के भंडारण किया गया है इसके साथ रसोई गैस 26 वाहन, पेट्रोल डीजल की 13 वाहनों के माध्यम से आपूर्ति की गई है।
भेड़ पालकों को आवाजाही पर है छूटः
जिला कांगड़ा में गदिद्यों को भेड़ तथा बकरियों को एक स्थान से दूसरे स्थान में ले जाने की कोई पाबंदी नहीं है इसके साथ घोड़ा, खच्चर तथा उंटों को भी एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने की में किसी भी तरह की पाबंदी नहीं है। भेड़पालकों के लिए राशन की व्यवस्था भी जगह जगह पर की जा रही है। कांगड़ा जिला में तूड़ी की भी नियमित तौर पर आपूर्ति हो रही है अगर किसी स्तर पर समस्या हो तो संबंधित उपमंडलाधिकारियों से संपर्क करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।