पटवारियों का रोजनामचा होगा ऑनलाईन: उपायुक्त
August 22nd, 2019 | Post by :- | 266 Views

मंडी, 22 अगस्त: उपायुक्त कार्यालय सभागार में वीरवार को मंडी जिले के राजस्व अधिकारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि जिले में पटवारियों का रोजनामचा ऑनलाईन किया जाएगा। इससे उनकी कार्यप्रणाली चुस्त दुरूस्त होगी और उसमें पारदर्शिता सुनिश्चित होगी।

उन्होंने कहा कि जिले में पिछले 6 महीनों में राजस्व से जुडे़ 17 हजार 249 मामलों का निपटारा किया गया है। इन मामलों में इंतकाल, तकसीम, निशानदेही, अपराधिक, आरटीआई और कोर्ट से सम्बन्धित मामले शामिल हैं।
उन्होंने कहा कि मंडी जिला में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत अभी तक जिला में एक लाख 47 हजार 265 किसानों को लाभ पहुंचाया गया है । भारत सरकार ने किसानों को आर्थिक सहायता देने के लिए यह योजना आरंभ की है । इसके तहत किसानों को हर वर्ष 6 हजार रुपए दिए जाएंगे। यह सहायता वर्ष में तीन बार दो-दो हजार रुपए की किश्तों में दी जाएगी, जो सीधे किसानों के बैंक खाते में आएंगी। इस योजना में शतप्रतिशत लक्ष्य हासिल करने के लिए जिला को मिशन मोड पर काम किया जा रहा है।
विगत 6 मास के कार्यों के निपटान में उपमंडल सुन्दरनगर अव्वल रहा है, गोहर और थुनाग ने भी इस अवधि में प्रशंसनीय काम किया है। उपायुक्त ने टिक्कन और कोटली में कार्यों की गति पर संबंधित अधिकारियों की सराहना की। े
ई-गर्वनैंस के माध्यम से गत 6 माह में 26 लाख 6 हजार 484 रुपए एकत्रित किगए गए । बचत समिति के तहत 158 दुकानों से 30 लाख 62 हजार 319 की राशि किराए के रूप में एकत्रित की गई। उन्होंने सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए कि म्यूटेशन और निशानदेही के लम्बित मामलों को शीघ्र निपटाएं।
उपायुक्त ने सभी निर्वाचक अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिला में जितने भी मतदान केन्द्र हैं या नए केन्द्र प्रस्तावित हैं पर उन केन्द्रों पर रैम्प की सुविधा इस तरह से सुनिश्चित करें कि दिव्यांगों की व्हील चेयर सड़क से मतदान केन्द्र तक आसानी से पहुंच सके। सभी उपमण्डलों में वोटर सुविधा केन्द्र भी बनाएं।
बैठक में एडीएम श्रवण मांटा, भारतीय सेवा परिवीक्षाधीन अजय कुमार यादव, जिला राजस्व अधिकारी राजीव सांख्यान सहित समस्त उपमण्डलाधिकारी, तहसीलदार व नायब तहसीलदार उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।