चंबा में नया बस अड्डा के पास घर के बाहर नवजात शिशु को छोड़ गए लोग #news4
December 19th, 2021 | Post by :- | 146 Views

चंबा : जिला मुख्यालय चंबा स्थित नए बस अड्डे में रविवार को कड़ाके की ठंड के बीच स्वजन एक टब में नवजात बच्ची को छोड़ गए। बच्ची का उपचार मेडिकल कालेज में चल रहा है। रविवार सुबह नए बस अड्डे के साथ लगते एक घर के बाहर टब में स्वजन नवजात बच्ची को छोड़कर भाग गए। इस पर बच्ची ने जोर-जोर से रोना शुरू कर दिया। बच्ची के रोने का आवाज सुनकर लोग जाग गए तथा तुरंत बाहर आए। इस दौरान उन्होंने पाया कि बाहर रखे टब में एक बच्ची शाल में लिपटी हुई है। उन्होंने देर न करते हुए बच्ची को घर के अंदर पहुंचाया। चाइल्डलाइन को इसके बारे में सूचना दी गई।

सूचना मिलते ही चाइल्डलाइन समन्वयक कपिल शर्मा ने पुलिस के साथ संपर्क साधा और मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जब जांच की तो बच्ची की सांसें चल रही थी। उसे तुरंत मेडिकल कालेज चंबा लाया गया, जहां चिकित्सीय जांच के बाद उसे भर्ती कर लिया गया है। बच्ची की हालत स्थिर बताई जा रही है।

वहीं, चिकित्सकों की मानें तो बच्ची का जन्म एक-दो दिन पहले ही हुआ है। चाइल्डलाइन समन्वयक कपिल शर्मा ने बताया कि रविवार सुबह छह बजे उन्हें इस मामले की सूचना प्राप्त हुई थी। बच्ची को मेडिकल कालेज में भर्ती करवा दिया गया है। पुलिस में भी मामला दर्ज करवा दिया गया है। उन्होंने आम जनमानस से अपील की है कि यदि इस बच्ची से संबंधित कोई भी सूचना व जानकारी हो तो चाइल्डलाइन अथवा पुलिस से जरूर संपर्क करें। सूचना देने वालों की पहचान गोपनीय रखी जाएगी।

उधर, डीपीओ महिला बाल विकास चंबा बालकृष्ण शर्मा का कहना है कि अस्पताल में उपचाराधीन नवजात बच्ची की हालत स्थिर होने पर उसे शिशु गृह शिमला ले जाया जाएगा। जहां से आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

उधर, वहीं पुलिस थाना सदर के प्रभारी इंस्पेक्टर सकीनी कपूर ने बताया कि बच्ची मिलने के बाद अज्ञात लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया गया है। मामले की गहनता से जांच की जा रही है और बस अड्डे के आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी खंगाली जा रही है। साथ ही उनकी खोजबीन करने के लिए रणनीति के तहत कार्य किया जा रहा है।

-सकीनी कपूर, थाना प्रभारी सदर चंबा

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।