कोरोना पर झूठ परोस कर लोगों को डराया जा रहा है……
March 26th, 2020 | Post by :- | 134 Views

कोरोना पर झूठ परोस कर लोगों को डराया जा रहा है, कृपया डरें नहीं बीमारी से डटकर लड़ें
*झूठी खबरों से सावधान -*
1- इटली के प्रेसिडेंट कि रोने वाली तस्वीर ।
सच्चाई- वो इटली नहीं ब्राज़ील के प्रेसिडेंट की तस्वीर हैं , और रो नहीं रहै है, फोटो एडिटेड है ।

2- कई लाशों वाली इटली शहर की तस्वीर।
सच्चाई – एक फिल्म कांटेजिअन का सीन है।

3- कोरोना पर 498/- का जिओ का फ्री रीचार्ज।
सच्चाई – कंपनी ने ऐसा कोई दावा नहीं किया है। इसपर दिया लिंक आपके बैंक खाते से पैसे जरूर उड़ा सकता है

4- इटली में लोग जमीन पर पडे सहायता के लिए चिल्ला रहे हैं।
सच्चाई – वर्ष 2014 के एक आर्ट प्रोजेक्ट की तस्वीर है।

5- डॉ रमेश गुप्ता की किताब जंतु विज्ञान में कोरोना का इलाज है।
सच्चाई – नहीं है।

6- मेदांता हास्पिटल के डाॅ नरेश त्रेहान की नेशनल इमर्जेंसी की अपील।
सच्चाई – डॉ त्रेहान ने कोई अपील नहीं की।

7- एक कपल की तस्वीर जो 134 पीड़ितों का इलाज करने के बाद संक्रमण का शिकार हो गए।
सच्चाई – तस्वीर किसी डॉक्टर कपल की नहीं है। एयरपोर्ट पर एक जोड़े की है।

8- कोविड 19 कोरोना की दवा।
सच्चाई – यह दवा नहीं, जांँच किट है।

9- गेट पर खड़े एक डॉक्टर को जब पता लगा कि वह कोरोना से संक्रमित है, तो बह घर आया और आखिरी बार बीबी बच्चों को गेट पर से देख चला गया
सच्चाई – किसी डॉक्टर को पता होता है कि कोरोना संक्रमण हो भी जाए, तो बचा जा सकता है, जो पैदल चलकर आ सकता है, बह कहां से सीरियस होगा

10- रूस में 500 शेर सड़कों पर।
सच्चाई – एक फिल्म का सीन है।

11- इटली की ताबूत वाली तस्वीर।
सच्चाई – यह 7 वर्ष पुराने एक हादसे की तस्वीर है, कोरोना से इसका कोई संबंध नहीं है।

मित्रों झूठी अफवाहों के बहकावे में आकर अपना धैर्य न खोएं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।