फुटपाथ पर अतिक्रमण, सड़क पर लोग #news4
November 15th, 2021 | Post by :- | 132 Views

सड़क पर पैदल चल रहे लोगों के साथ कोई दुर्घटना न हो, इसलिए नगर परिषद घुमारवीं के तहत बाजार में फुटपाथ का निर्माण किया गया है। हालांकि लोगों को यह सुविधा अतिक्रमणकारियों के कारण नहीं मिल पा रही है। इस कारण लोगों के सड़क पर चलने से हर समय दुर्घटना का अंदेशा बना रहता है।

हैरानी की बात है कि लोग कई बार इन अतिक्रमणकारियों की शिकायत नगर परिषद से कर चुके हैं। इसके बावजूद नगर परिषद अभी तक कार्रवाई करने के लिए एक भी कदम आगे नहीं बढ़ा पाई है। नगर परिषद घुमारवीं का बाजार राष्ट्रीय राजमार्ग शिमला-मटौर के बीच बसा हुआ है। बाजार में छोटे व बड़े वाहन हर समय चलते हैं। सड़क पर लोगों के चलने से यहां हादसों का डर बना रहता है। कई बार लोग सड़क पर वाहनों की चपेट में आने से घायल भी हो चुके हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार यदि कोई व्यक्ति फुटपाथ से अतिक्रमण हटाने के लिए कहता है तो अतिक्रमणकारी उससे उलझ पड़ते हैं। नगर परिषद अगर अतिक्रमण को हटाने के निर्देश देती है तो अधिकारियों के वहां होने तक अतिक्रमण हटा लिया जाता है लेकिन बाद में पहले जैसी स्थिति हो जाती है।

कई स्थानीय दुकानदार भी फुटपाथ पर दुकानों का सामान सजाते हैं। कुछ मैकेनिक भी वाहनों को फुटपाथ पर खड़ा कर देते हैं। नगर परिषद के अधिकारी अकेले अतिक्रमण को हटाने में नाकाम हैं। नगर परिषद के अधिकारी चाहते हैं कि उनके साथ पुलिस के जवान हों तो अतिक्रमण को हटाया जा सकता है। अतिक्रमणकारियों के खिलाफ सख्त हो कार्रवाई

स्थानीय लोगों का कहना है कि फुटपाथ लोगों के प्रयोग के लिए बनाया गया है लेकिन इस पर दुकानदारों ने कब्जा कर लिया है। प्रशासन को चाहिए कि इन अतिक्रमणकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए ताकि कोई दोबारा अतिक्रमण न कर सके। यदि कोई व्यक्ति दोबारा अतिक्रमण करता है तो उसके सामान को जब्त कर भारी चालान किया जाए।

लोगों को फुटपाथ से अतिक्रमण हटाने के लिए चेतावनी दी गई है। यदि लोग अतिक्रमण को नहीं हटाते हैं तो इसे पुलिस जवानों के साथ मिलकर हटाया जाएगा।

रीता सहगल, अध्यक्ष, नगर परिषद घुमारवीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।