प्रदेश में आवश्यक वस्तुएं पर्याप्त, घबराहट में खरीदारी न करें लोग: जयराम
March 26th, 2020 | Post by :- | 203 Views

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने गुरुवार को प्रदेश की उचित मूल्य की दुकानों में आवश्यक खाद्य सामग्री की उपलब्धता को लेकर प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। मुख्यमंत्री आवास पर बैठक में जयराम ने वितरण में आ रही परेशानियों पर चर्चा की और निर्देश दिए की आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति प्रभावी तरीके से जारी रखी जाए। उन्होंने प्रदेश वासियों से भी आग्रह किया है कि घबराहट में खरीदारी न करें क्योंकि प्रदेश में आवश्यक वस्तुएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। बैठक में निर्देश दिए कि आवश्यक सामग्री लेकर आने वाले वाहनों को रोका नहीं जाए। अधिकारियों ने जानकारी दी  कि भारतीय खाद्य निगम के भंडारों में गेहूं और चावल आदि का पर्याप्त भंडार है। हिमाचल में भी गेहूं आटा, चावल के पर्याप्त भंडार के साथ 1200 मीट्रिक टन से अधिक नमक और 4000 मीट्रिक टन से अधिक चीनी का भंडार है। इसलिए घबराने की आवश्यकता नहीं है। जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य में इस समय चना और मसूर सहित दालों का भी पर्याप्त स्टॉक है। अधिकारियों को अन्य राज्यों से दालों की प्रभावी आपूर्ति सुनिश्चित बनानी चाहिए। कर्फ्यू में ढील के समय उचित मूल्य की दुकानों में लोगों को आवश्यक वस्तुओं के वितरण के समय सामाजिक दूरी बनाए रखने का विशेष रूप से ध्यान रखा जाए। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम के सचिव अमिताभ अवस्थी, महाप्रबंधक मानसी सहाय ठाकुर एवं निदेशक आबिद हुसैन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी बैठक में शामिल हुए।

उद्घाटन से पहले भंडार ग्रहों के इस्तेमाल के निर्देश
बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिले में नागरिक आपूर्ति निगम के 1500 मीट्रिक टन की भंडारण क्षमता वाले चैतड़ू और सिद्धपुर भंडारों का इस्तेमाल 350 से 400 मीट्रिक टन दालों और अन्य आवश्यक वस्तुओं के भंडारण के लिए करने के निर्देश दिए। खास बात यह है कि इन दोनों भंडार ग्रहों का उद्घाटन होना बाकी है। उन्होंने निगम की दवा दुकानों में दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता, उपभोक्ताओं के घरों को एलपीजी की पर्याप्त आपूर्ति करने के भी निर्देश दिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।