लोगों ने घेरकर मारा, बुजुर्ग ने आकर बचाई जान…
April 16th, 2020 | Post by :- | 152 Views

मुरादाबाद – उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में मेडिकल टीम पर हुए हमले ने इनसानियत को शर्मसार कर दिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना को लेकर सख्त रुख अख्तियार करते हुए दोषियों के खिलाफ एनएसए लगाने और नुकसान की भरपाई उनकी संपत्ति से करने का आदेश दिया है। इस बीच घटना में घायल डाक्टर एससी अग्रवाल ने अपनी दास्तां सुनाई है। डा. एससी अग्रवाल ने कहा कि हम मुरादाबाद के नवाबपुरा में एक कोविड-19 पॉजिटिव मरीज के चार परिवारवालों को लेने गए थे। जैसे ही हमने उन्हें एंबुलेंस में बिठाया, कुछ लोगों ने हमें घेर लिया और विवाद शुरू हो गया। लोगों ने हम पर हमला कर दिया। उन्होंने बताया कि वहां मौजूद एक बुजुर्ग ने आगे आकर हमारी जान बचाई। कुछ देर बाद पुलिस भी आ गई। दरअसल मुरादाबाद में मंगलवार देर रात एक कोरोना मरीज की मौत हो गई थी। बुधवार को एक मेडिकल टीम इस मौत के बाद हाजी नेक की मस्जिद के पास से मरीज के संपर्क में आए लोगों को क्वारंटाइन करने के लिए लेने गई थी। एंबुलेस जैसे ही कुछ लोगों को लेकर निकली, दर्जनों लोगों ने एंबुलेंस को घेर लिया और पथराव शुरू कर दिया। एंबुलेंस में मौजूद डा. एससी अग्रवाल को खींचकर लोगों ने पीटना शुरू कर दिया। मेडिकल स्टाफ ने बताया कि लोगों ने वहां हम लोगों को पीटने की पहले से ही तैयारी कर रखी थी। घटना में पुलिस की गाड़ी और एंबुलेंस आदि को भारी नुकसान पहुंचा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लेते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग के डाक्टर्स व कर्मी, सभी सफाई अभियान से जुड़े अधिकारी/कर्मचारी, सुरक्षा में लगे सभी पुलिस अधिकारी और पुलिसकर्मी इस आपदा की घड़ी में दिन-रात सेवा कार्य में जुटे हैं। इन पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा दोषी व्यक्तियों द्वारा की गई सरकारी संपत्ति के नुकसान की भरपाई उन्हीं से करवाए जाने का आदेश दिया है। उन्होंने जिला और पुलिस प्रशासन को ऐसे उपद्रवी तत्त्वों को तत्काल चिह्नित कर गिरफ्तार करने का आदेश दिया है। मुख्यमंत्री की सख्ती के बाद पुलिस भी एक्शन में आ गई है और घटना की आरोपी कुछ महिलाओं को हिरासत में लिया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।