डीजीपी की दोटूक, जो जहां है वहीं रहे; नहीं दी जाएगी हिमाचल में प्रवेश की अनुमति
April 14th, 2020 | Post by :- | 165 Views

लाॅकडाउन की अवधि बढ़ने के कारण दूसरे राज्यों में फंसे लोग वापस हिमाचल नहीं आ पाएंगे। डीजीपी एसअार मरडी ने कहा कि जो जहां है, वहीं पर रहे। 20 अप्रैल तक प्रदेश में लॉकडाउन का कठोरता से पालन होगा। बकौल मरडी लॉकडाउन देश का कानून है और राज्य सरकार भी इसका पालन करने के लिए बाध्य है। इस कानून की पालना करवाने की जिम्मेवारी जिलों के उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों की है। उन्हें इसके लिए व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेवार ठहराया गया है। पुलिस प्रमुख ने कहा कि 3 मई तक अगर कोई व्यक्ति बाहर से हिमाचल आने की कोशिश करेगा भी तो उसे सीमा पर ही रखेंगे। उसे वहीं पर क्वारंटाइन पर रखा जाएगा। असुविधा से बचने के लिए बेहतर है कोई वापस अाने का प्रयास न करें।

आशावादी बनें

डीजीपी ने लोगों को आशावादी बनने की सलाह दी है। उन्होंने कहा भारत समेत दुनिया भर के देशों के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन और दवा बनाने की कोशिशों में जुटे हैं। सब लोग कष्ट झेल रहे हैं। लेकिन जिन हालातों को हम बदल नहीं पाएंगे, उसके बारे में ज्यादा चिंता न करें। हम केवल एहतियात बरत सकते हैं। इसे जरूर बरतें। घरों में बने मास्क को पहनें।

वाजपेयी की हार से दु:खी व्यक्ति की सुनाई घटना

मरडी ने कहा कि देश के कद्दावर नेता रहे अटल बिहारी वाजपेयी वर्ष 1984 में आम चुनाव हार गए थे। कर्नाटक के एक विश्वविद्यालय का छात्र हार को सहन नहीं कर पाया और उसने आत्महत्या कर ली थी। अगर उसने अनुशासन और धैर्य रखा होता तो फिर वह आत्महत्या न करता और वो सुनहरा दिन भी देखता जब वाजपेयी देश के प्रधानमंत्री बने। ऐसे में लोग आशावादी दृष्टिकोण से जिंदगी जीयें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।