गरीब के पास नहीं एंड्रॉयड फोन,घर बैठे कैसे पढ़ेंगे बच्चे ….
April 13th, 2020 | Post by :- | 171 Views

हमीरपुर- गरीब तबके के बच्चों के पास एंड्रॉयड फोन जब है ही नहीं तो पढ़ाई ऑनलाइन कैसे हो पाएगी। अमीर व मध्यम वर्ग के बच्चे तो अपनी शिक्षा ऑनलाइन माध्यम से कर लेंगे, लेकिन गरीब की पढ़ाई प्रभावित हो सकती है। स्कूली बच्चों की पढ़ाई के लिए सरकार के शुरू किए गए समय 10 से 12 वाला, हर घर बने पाठशाला अभियान से गरीब विद्यार्थी एंड्रॉयड फोन के अभाव में नहीं जुड़ पा रहे हैं। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों के दिहाड़ीदार लोगों को बच्चों की पढ़ाई के लिए लॉकडाउन के दिनों में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण ऐसे परिवारों के पास एंड्रॉयड फोन का न होना है। हालांकि इन परिवारों ने पास मोबाइल तो हैं, लेकिन वह साधारण से हैं। बच्चों की पढ़ाई वर्तमान में व्हाट्सऐप गु्रप और फोन ऐप के माध्यम से करवाई जा रही है। ऐसे में गरीब वर्ग के छात्र सरकार के इस अभियान से जुड़ने से वंचित रह रहे हैं। ऐसे में इनकी पढ़ाई प्रभावित होना भी स्वाभाविक ही है। हालांकि सरकार ने छात्रों की सुविधा के लिए यह अभियान शुरू किया है, लेकिन कई छात्रों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। अध्यापक एंड्रॉयड फोन होने पर ही छात्रों को व्हाट्सऐप गु्रप में नहीं जोड़ पा रहे हैं। अन्य छात्रों को तो वीडियो के माध्यम से पढ़ाया जा रहा है और होमवर्क भी दिया जा रहा है, लेकिन जो छात्र बिना एंड्रॉइड फोन के हैं वे इससे वंचित रह रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों का कहना है कि उनके पास एंड्रॉयड फोन नहीं है। इस कारण फोन के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने वाले अभियान से उनके बच्चे नहीं जुड़ पाए हैं। इस बारे में उपनिदेशक प्रारंभिक शिक्षा हमीरपुर बलवंत कुमार नड्डा का कहना है कि समस्या ध्यान में आई है। उच्च अधिकारियों को भी अवगत कराया गया है। जो परिवार फोन खरीदने के सक्षम हैं वे फोन खरीद सकते हैं। हालांकि इसके लिए कोई दबाव नहीं है। अगर बच्चों के माता-पिता पढ़े लिखे हैं, तो वे स्वयं भी बच्चों को पढ़ा सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।