प्रतिभा सिंह बोलीं- हार देखकर घबरा गई है भाजपा, इसलिए बार-बार करवा रहे मोदी के दौरे #news4
October 13th, 2022 | Post by :- | 70 Views

शिमला : हिमाचल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह ने कहा कि विधानसभा चुनाव में हार देखकर भाजपा घबरा गई है। इसी डर से बार-बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बुलाना पड़ रहा है। मंडी, शिमला, ऊना, चंबा और बिलासपुर में प्रधानमंत्री के दौरे करवाए जा चुके हैं। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि भाजपा की क्या स्थिति है।

वीरवार को शिमला में पत्रकारों से बातचीत में प्रतिभा सिंह ने कहा कि पिछले चुनाव में जो वादे किए थे उन्हें अब तक पूरा नहीं किया है। प्रधानमंत्री का ऊना और चंबा दौरा चुनावी रैली है। प्रदेश में बदलाव होगा और अब इसे कोई नहीं रोक सकता। प्रदेश में भाजपा की उलटी गिनती उपचुनाव से शुरू हुई है। लोगों ने भाजपा को सत्ता से बाहर करने का मन बना लिया है। भाजपा सरकारी धन का दुरुपयोग कर रही है। चुनाव से ठीक पहले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर प्रधानमंत्री से जल्दबाजी में आधे अधूरे कार्यों का उद्घाटन व शिलान्यास करवा रहे हैं। भाजपा इसका विधानसभा चुनाव में लाभ लेने की कोशिश में है।

रैलियों पर करोड़ों रुपये खर्च कर रही भाजपा

प्रतिभा सिंह ने कहा कि इस समय प्रदेश गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा है। सरकार पर भाजपा की रैलियों की करोड़ों रुपये की देनदारियां हो गई हैं। सरकार के पास कर्मचारियों को वेतन देने तक के पैसे नहीं है। सरकार ने जुलाई में 1000 करोड़ रुपये का ऋण लिया, फिर अगस्त में 1500 करोड़, सितंबर में 2500 करोड़ व अक्टूबर में 1000 हजार करोड़ रुपये का ऋण लिया है। आरोप लगाया कि भाजपा सरकार यह पैसा अपनी चुनावी रैलियों और केंद्रीय नेताओं की आवभगत पर खर्च कर रही है।

झूठ बोल रहे हर्ष महाजन, खुद बताते थे सोनिया से मिलकर आया हूं

हर्ष महाजन के आरोपों पर प्रतिभा सिंह ने कहा कि हर्ष महाजन झूठ बोल कर लोगों को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पहले जब वह दिल्ली जाकर आते थे तो कहते थे कि दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात की है। अब कह रहे हैं कि छह माह तक समय नहीं मिलता। वह पहले ठंडे दिमाग से सोच लें फिर बयान दें। जो नेता भाजपा में गए हैं, उनसे कांग्रेस को कोई नुकसान नहीं होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।