नागरिकता संशोधन बिल पारित होने पर भड़की कांग्रेस, शिमला में किया प्रदर्शन
December 11th, 2019 | Post by :- | 158 Views

हिमाचल कांग्रेस ने लोकसभा में पारित नागरिकता संशोधन बिल का कड़ा एतराज जताते हुए इसके विरोध में  बुधवार को उपायुक्त कार्यालय शिमला के समक्ष प्रदर्शन और नारेबाजी की। कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने इस बिल के प्रावधानों पर चिंता व्यक्त करते हुए इसे देश की एकता और अखंडता के लिए गंभीर खतरा बताया। उन्होंने कहा कि इसके लागू होने से देश में कट्टरवाद और संकीर्ण मानसिकता बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार देश को धर्म के आधार पर बांटने का प्रयास कर रही है। राठौर ने कहा कि भाजपा देश में संविधान की धारा 14 की मूल भावना से छेड़छाड़ कर अपने एजेंडे पर काम कर रही है। इस धारा के अंतर्गत पहले भी आठ बार इसमें संशोधन हुए। पर किसी ने एतराज नहीं किया। पहली बार जिस तरह देश में भय का माहौल बना है और पूर्वोत्तर के राज्यों में जैसा आक्रोश फैला रहा है। वह चिंता का विषय है। यह भारत के संविधान में देश की समानता, न्याय और आजादी के खिलाफ  है। जो देश की  धर्म निरपेक्षता पर भी सीधा प्रहार है।

भाजपा देश को बांटने का काम कर रही है। उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह पर आरोप लगाया है कि वह संसद के अंदर और बाहर विपक्षी नेताओं को डराने और धमकाने का प्रयास कर रहे हैं, पर विपक्ष उनकी धमकियों से डरने वाला नहीं है। राठौर ने कहा कि कांग्रेस देश मे भाजपा के खिलाफ  बड़ा आंदोलन शुरू करने जा रही है। 14 दिसंबर को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी इस का शुभारंभ करेंगी।

इस अवसर पर उनके साथ महिला कांग्रेस अध्यक्ष जैनब चंदेल, हरि कृष्ण हिमराल,  सोनिया चौहान, राजकुमारी सोनी,  शशि ठाकुर, इंद्र सिंह, जितेंद्र  चौधरी, आंनद कौशल, दिवाकर देव, संजीव कुठियाल, आत्मा राम, नरेद्र ठाकुर, डा. डीएस धीमान, यशवंत छाजटा,  चंद्र शेखर,  अमित नंदा, तनु चौहान,  शशि बहल,  विनीता वर्मा, सरिता चंदेल, कृष्णा जरयाल, ऊषा मेहता, कमला वर्मा, रीता चौहान, यशपाल तनाईक, सेन राम नेगी के अतिरिक्त महिला कांग्रेस,  सेवा दल, युवा कांग्रेस और प्रदेश कांग्रेस के कई अन्य नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।