पंजाब पुलिस का कांस्टेबल कर्फ्यू का उल्लंघन कर गाड़ी में बिलासपुर छोड़ गया परिवार, पुलिस ने की FIR
April 21st, 2020 | Post by :- | 107 Views

लुधियाना में रह रहे एक सैनिक व उसके परिवार को पंजाब पुलिस का एक कॉन्स्टेबल अपनी निजी गाड़ी में ड्यूटी का हवाला देकर बिलासपुर जिले के ग्वाल थाई छोड़कर वापस चला गया। प्रतिबंध के बावजूद पंजाब पुलिस के मुलाजिम की ओर से सैनिक व उसके परिवार को गवाल थाई में छोड़ने के इस मामले की शिकायत पुलिस तक पहुंची। इसके बाद जांच करने पर तथ्य मिलते ही इस संबंध में तथ्य मिलते ही पंजाब पुलिस के कॉन्स्टेबल व सैनिक के परिवार के खिलाफ कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर कोट थाना में एफआइआर दर्ज की गई है।

एसपी दिवाकर शर्मा ने बताया बिलासपुर जिले के ग्वालथाई इलाके के तहत आने वाले गांव धलेट के रहने वाले फौजी सनी कुमार की वर्तमान में तैनाती जम्मू कश्मीर जिले में है। लेकिन जब केंद्र सरकार की ओर से कोरोना महामारी के संबंध में पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान किया गया था तो उस दौरान सनी कुमार छुट्टी पर आया हुआ था। पंजाब के लुधियाना इलाके में अपनी पत्नी बच्चों और सास के साथ रह रहा था।

भारतीय सेना ने केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन होने के तुरंत बाद सेना से घर छुट्टी गए हुए अपने तमाम फौजियों को आदेश दिया था कि वे अपने घरों पर या जहां भी हैं, वहीं पर रहें। करीब 25 दिन से सन्नी कुमार लुधियाना में अपने परिवार के साथ लॉकडाउन के दौरान रह रहा था। लेकिन इस बीच अचानक सनी कुमार और उसके परिवार को पंजाब पुलिस के लुधियाना डिवीजन नंबर छह में तैनात कॉन्स्टेबल नरेंद्र सिंह अपनी निजी गाड़ी में पुलिस की वर्दी में खुद को ड्यूटी पर तैनात बताकर व पुलिस ऑन ड्यूटी लिखा कर लुधियाना से बिलासपुर तक पहुंच गया।

दिवाकर शर्मा ने बताया कि जब पुलिस तक यह शिकायत पहुंची तो इस मामले की जांच की गई तो पंजाब पुलिस के कर्मचारी नरेंद्र सिंह ने तमाम नाकों पर यह कहकर पुलिस को गुमराह किया कि वह ड्यूटी पर है और पंजाब के नंगल से अपने रिश्तेदारों को गवाल थाई में छोड़ने के लिए जा रहा है। गड़ामोड़ा और ग्वाल थाई में हिमाचल पुलिस को भी नाकों पर उसने गुमराह किया। अब जाकर तमाम तथ्य जुटाने के बाद पुलिस ने फौजी के परिवार और लुधियाना पुलिस के कांस्टेबल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।