कोरोना फंड में सौ रुपये दान के नाम पर क्यूआर कोड स्कैन करवाया अौर खाते से उड़ गए 20 हजार रुपये
April 13th, 2020 | Post by :- | 103 Views

कोरोना महामारी के नाम पर फंड एकत्र करने में साइबर ठग सक्रिय हो गए हैं। शिमला में इस तरह की ठगी का पहला मामला सामने आया है। ठगी का शिकार प्रदेश हाईकोर्ट का चतुर्थ श्रेणी कर्मी आया है। साइबर सेल की सक्रियता के कारण ठगी का पैसा राजस्थान में एक बैंक से फ्रिज कर दिया है। इसे पीड़ित व्यक्ति को रिफंड करवाने में कामयाबी मिल गई है।

सीआइडी के साइबर सेल के एएसपी नरवीर राठौर ने बताया हाईकोर्ट के कर्मचारी बलराम शर्मा को फोन कॉल आई। इसमें कहा गया कि वे कोरोना पीड़ितों की मदद करना चाहते हैं। ऐसे में वह भी सौ रुपये का अंशदान करें। इसके लिए उसे क्यूआर कोड स्कैन करने को कहा गया। जैसे ही इसे स्कैन किया गया, वैसे ही बैंक खाते से बीस हजार रुपये उड़ा लिए गए, तब उसे पता चला कि फोन कॉल करने वाले ठग थे।

इसकी शिकायत तत्काल साइबर सेल को दी गई। जांच में पता चला कि यह पैसा राजस्थान के एक बैंक खाते में ट्रांसफर हो गया था। जांच एजेंसी ने बैंक अथॉरिटी से संपर्क कर इसे फ्रिज करने को कहा। अब इस पैसे को रिफंड कर दिया गया है। इसे देखते हुए साइबर सेल ने एडवायजरी जारी की है। इसमें ठगों से सतर्क रहने को कहा गया है। इसमें कहा गया है कि सोशल मीडिया में कोरोना से जुड़े लिंक, ईमेल पर रिस्पांड न करें। केवल आधिकारिक सूचनाओं पर भरोसा करें। अधिकारिक कोविड फंड के अलावा कहीं भी दान न करें। किसी के झांसे में न आएं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।