Radha Swami Satsang Paraur; कल परौर पहुंचेंगे डेरा प्रमुख बाबा गुरिंद्र सिंह महाराज, 9 तथा 10 को करेंगे सत्संग, लाखों की संख्या में पहुंचने लगे अनुयायी #news4
April 7th, 2022 | Post by :- | 381 Views

परौर  : राधा स्वामी सत्संग व्यास डेरा प्रमुख बाबा गुरिंद्र सिंह ढिल्लों कल आठ अप्रैल को हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्थित परौर डेरे में पहुंचेंगे। समागम के लिए अभी से ही भारी संख्या में संगत पहुंचना शुरू हो गई है। सेवादारों ने लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली है तथा कुछ एक तो अंतिम रूप दिया जा रहा है। सेवादारों ने संगत के ठहरने के लिए सारा बन्दोबस्त कर लिया है। डेरे के मुख्य पंडाल सहित परौर के जंगलों में अस्थाई शिविर स्थापित किए हैं। पार्किंग की भी पूरी तरह से व्यवस्था की गई है। जगह जगह लाइट का भी प्रबंध किया गाय है। बड़े वाहनों के लिए परौर मेला ग्राउंड, कालेज ग्राउंड तथा दरंग के समीप ग्राउंड में पार्किंग की व्यवस्था की गई है। संगत के लिए लंगर की भी व्‍यवस्‍था की गई है।

महामारी के दौरान संगत ने की भरपूर सेवा

गौरतलब है कि कोरोना काल में लगभग हर वर्ष होने वाला यह आयोजन नहीं हो पाया था। इसके बावजूद राधा स्‍वामी व्‍यास की संगत ने महामारी के दौरान जनता की भरपूर सेवा की थी। इसी डेरे के भीतर कोविड अस्‍पताल भी स्‍थापित किया गया था। महामारी के दौरान डेरे से जुड़ी संगत की सेवाएं अनुकरणीय रही हैं। प्रशासन की सहायता से यहां कोविड अस्‍पताल बनने से पूर्व आइसोलेशन सेंटर भी बनाया गया था।

अनुकरणीय होती है यातायात व्‍यवस्‍था

महाराज के आगमन के कारण समागम में लाखों की भीड़ होती है और डेरे के पास से ही पठानकोट-मंडी राष्‍ट्रीय राजमार्ग भी गुजरता है किंतु संगत ने दायित्‍व इस प्रकार बांटे होते हैं कि यातायात पर प्रभाव नहीं पड़ता है। हालांकि स्‍थानीय पुलिस भी सहयोग करती है किंतु संगत स्‍वयं ही अनुशासित रह कर यातायात को नियंत्रित कर व्‍यवस्‍था बनाती है।

हजारों की संख्‍या में होते हैं वाहन

समागम के दौरान भारत के सभी राज्‍यों से अनुयायी परौर पहुंचते हैं और समागम में योगदान देते हैं नतीतजन वाहनों की संख्‍या भी हजारों में होती है। वाहनों की पार्किंग के लिए उचित प्रबंध किए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।