ओवर ब्रिज बनाने से रेलवे ने पीछे खींचे हाथ #news4
January 2nd, 2022 | Post by :- | 89 Views

जोगेंद्रनगर : उत्तर रेलवे के नगरोटा-जोगेंद्रनगर सेक्शन को फाटक मुक्त बनाने की कवायद फिर से ठंडे बस्ते में पड़ गई है। बजट के अभाव में एहजू -घट्टा रेलवे क्रासिग को फाटक मुक्त बनाने का मामला लटक गया है। ऐसे में वाहन चालकों को रेलवे क्रासिग के दौरान दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। रेलवे क्रासिग पर वाहनों की नियमित आवाजाही के लिए जो ओवर ब्रिज स्थापित होने थे उसको लेकर रेलवे विभाग के अधिकारियों ने गंभीरता नहीं दिखाई है।

जोगेंद्रनगर रेलवे स्टेशन के तहत आने वाले चौंतड़ा, भटेहड़ ल घट्टा रेलवे क्रासिग पर ओवर ब्रिज औपचारिकता के फेर में उलझ गए हैं। 163 किलोमीटर जोगेंद्रनगर-पठानकोट रेल लाइन का निर्माण ब्रिटिश काल में एशिया की पहली शानन स्थित पन विद्युत परियोजना के निर्माण के लिए मशीनरी पहुंचाने के लिए किया था। बैजनाथ से नगरोटा तक रेलवे लाइन पर दौड़ रही रेलगाड़ियों के आवागमन के दौरान जब रेलवे क्रासिग के लिए फाटक को बंद किया जाता है उस दौरान सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लग जाने से कई मर्तबा आपात वाहनों की आवाजाही भी ठप हो जाती थी। स्थानीय लोगों व वाहन चालकों की सुविधा के लिए रेलवे लाइन की क्रासिग में ओवर ब्रिज स्थापित करने की औपचारिकताएं दिवंगत सांसद रामस्वरूप शर्मा के कार्यकाल में पूरी कर ली गई थी।

नगरोटा जोगेंद्रनगर सेक्शन को फाटक मुक्त बनाने के लिए रेल मंत्रालय की ओर से ओवर ब्रिज बनाने की अभी कोई भी अधिसूचना जारी नहीं हुई है। ऐसे में जोगेंद्रनगर रेलवे स्टेशन के तहत आने वाले भटेहड़, चौंतड़ा और घट्टा रेलवे क्रासिग में अभी ओवर ब्रिज नहीं बन पाएंगे।

-राजेश भारद्वाज, स्टेशन अधीक्षक रेलवे स्टेशन जोगेंद्रनगर।

 

मंडी पठानकोट हाइवे पर एहजू और घट्टा रेलवे क्रासिग को फाटक मुक्त बनाने का ड्रीम प्रोजेक्ट दिवंगत सांसद रामस्वरूप शर्मा का है। प्रदेश सरकार से भी इस मामले को पुन: उठाया जाएगा।

-पंकज जम्वाल, सदस्य रेलवे बोर्ड।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।