शिमला में राहत की बारिश, ऊपरी क्षेत्रों में आफत के ओले #news4
May 3rd, 2022 | Post by :- | 101 Views

शिमला : राजधानी शिमला में मंगलवार को मौसम ने फिर से करवट बदली है। शहर में मंगलवार दोपहर बाद खिलखिलाती धूप घने बादलों में बदल गई। आसमान में काले घने बादल छा गए। इससे यहां पर दिन में अंधेरा छा गया। तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि से लोगों को गर्मी से राहत मिली। वहीं बारिश देख शिमला पहुंचे सैलानी भी झूम उठे। उन्होंने इन पलों को मोबाइल फोन व कैमरों में कैद किया।

शहर में बारिश शुरू होते लोग दुकानों व रेन शैल्टर में आसरा लेने पहुंचे। ऐसे में लोगों से भरा बाजार पलभर में खाली हो गया। राजधानी में मंगलवार को हुई बारिश और ओलावृष्टि से भले ही राहत मिली है, लेकिन ऊपरी शिमला के कुछ बागवानों को इसका नुकसान भी उठाना पड़ा है। राजधानी में हुई बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिली, वनों की आग से भी छुटकारा मिल गया, वहीं शहर को पानी देने वाले पेयजल स्त्रोत भी रिचार्ज हो जाएंगे। वहीं कुछ स्थानों पर बागवानों व किसानों का ओलों व अंधड़ ने नुकसान भी हुआ है।

शहर में काफी दिन से लोग गर्मी की तपिश से जूझ रहे थे। सैलानी शिमला में मैदानों की ठंडक से राहत पाने के लिए आते हैं, लेकिन उन्हें भी पूरी राहत नहीं मिल पा रही थी। अब मौसम में आई ठंडक के बाद सैलानियों के साथ स्थानीय लोगों को राहत मिली है। शहर में निगम की खुली पोल, सीढि़यों से लेकर गेट तक पहुंचा पानी

शहर के नालों से लेकर नालियां गर्मियों में बंद पड़ी थीं। बारिश के पानी से लोगों को गर्मी से भले राहत मिली हो, लेकिन बारिश का पानी नालियों से बाहर बहता रहा। शहर के बाजारों से लेकर गली-मुहल्लों में लोगों को घरों में पानी नालियों से निकल कर भर गया। आम लोगों के घरों तक पानी पहुंच गया। ठियोग की कंदरू पंचायत में ओलों से सेब को नुकसान

ठियोग की कंदरू पंचायत में ओलों से सेब की फसल को नुकसान हुआ है। इसी तरह से दूरदराज के क्षेत्रों में भारी ओलावृष्टि से लेकर अंधड़ से सेब सहित अन्य फसलों को नुकसान हुआ है। शहर में ओलावृष्टि के चलते कई सड़कें भी बंद हो गई थीं। कुछ समय के लिए शहर के कई रास्तों पर ट्रैफिक को बंद कर दिया। वहीं चौड़ा मैदान में भी ट्रैफिक को कुछ समय के लिए रोक दिया था।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।