रामपुर कालेज के प्राध्यापक भूख हड़ताल पर #news4
May 23rd, 2022 | Post by :- | 63 Views

रामपुर : हिमाचल प्रदेश राजकीय प्राध्यापक संघ के आह्वान पर रामपुर महाविद्यालय के प्राध्यापकों ने यूजीसी के सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें प्रदेश सरकार की ओर से लागू न करने के विरोध में एक दिवसीय भूख हड़ताल की। वहीं, सरकार को अल्टीमेटम दिया कि यदि 30 मई तक उनकी मांग न मानी तो उसके बाद क्रमिक अनशन शुरू किया जाएगा और मांगों को सरकार से मनवाने के लिए आंदोलन भी तेज किया जाएगा।

संघ की रामपुर इकाई के अध्यक्ष संदीप ठाकुर ने कहा कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू करने की मांग को लेकर प्रदेश सरकार के उदासीन रवैये के कारण प्रदेश के प्राध्यापकों में रोष है। महाविद्यालय में इन दिनों परीक्षाएं चल रही हैं। छात्रों के भविष्य को देखते हुए उन्हें प्रभावित किए बिना एक दिन की भूख हड़ताल की गई है। मंगलवार दोपहर वे गेट मीटिग कर एक घंटे का प्रदर्शन करेंगे। इस दौरान इकाई सचिव शिवाली ठाकुर, राजेश नेगी, आशा गर्ग, जितेंद्र साहनी, अनीता, प्रियंका ठाकुर, सुरेखा नेगी, अजेंद्र नेगी, गौरव सूद, नरेंद्र सैनी, विपन, दिव्या चौहान, गोपी चंद नेगी, जय सिंह व अंजलि नेगी उपस्थित थे।

वहीं, ठाकुर सेन नेगी राजकीय महाविद्यालय रिकांगपिओ के प्राध्यापकों ने गेट मीटिग कर रोष प्रदर्शन किया। स्थानीय इकाई के सचिव डा. ज्ञान चंद शर्मा ने कहा कि प्राध्यापक सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने की प्रतीक्षा में हैं। प्राध्यापकों को अक्टूबर 2014 से बंद की गई एमफिल व पीएचडी की वेतनवृद्धि बहाल करना, अनुबंध सेवाकाल को सेवालाल में शामिल करके नेशनल लाभ प्रदान करना, विभागीय पदोन्नति से प्राचार्यो की नियुक्ति और महाविद्यालयों में प्रोफेसर के पद सृजित करने के संबंध में भी कई बार मांगपत्र प्रस्तुत किए गए हैं लेकिन अब तक आश्वासन के सिवाय कुछ नहीं मिला है। वहीं, गेट मीटिग व रोष प्रदर्शन में प्राध्यापक जनक नेगी, सचिव डा. ज्ञान चंद शर्मा, डा. शीला नेगी, धर्म कीर्ति नेगी, डा. शांता नेगी, डा. सीधेश्वरी व निर्मला नेगी शामिल रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।