Punjab TET 2019: शुरू हो चुकी है रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया, इस दिन होगी परीक्षा
November 4th, 2019 | Post by :- | 228 Views

पंजाब स्कूल एजुकेशन बोर्ड (Punjab School Education Board- PSEB) ने पंजाब स्टेट टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (Punjab State Teacher Eligibility Test- PSTET) के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू कर दी है। इस बार स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (SCERT) की तरफ से PSEB परीक्षा का आयोजन करने जा रहा है। PSTET 2018 के लिए परीक्षा 15 दिसंबर, 2019 को आयोजित की जा रही है। पात्रता मानदंड को पूरा करने वाले सभी भारतीय उम्मीदवार PSTET 2018 के लिए आवेदन कर सकते हैं।

PSTET 2019 के लिए 02 नवंबर को एक नोटिफिकेशन जारी किया गया था और आवेदन प्रक्रिया आज से शुरू की गई है। हालांकि वेबसाइट पर न्यू रजिस्ट्रेशन का लिंक भी उसी दिन जारी कर दिया गया था लेकिन असल में रजिस्ट्रेशन विंडो आज से एक्टिवेट की गई है। जो उम्मीदवार PSTET 2019 परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं वो आधिकारिक वेबसाइट pstet.net पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

ऐसे करें पूरी करें PSTET 2019 रिजस्ट्रेशन प्रक्रिया-

स्टेप 1: सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट pstet.net पर विजिट करें।

स्टेप 2: अब New User पर क्लिक करके रजिस्ट्रेशन पेज पर पहुंचें।

स्टेप 3: अब आवेदन करने से पहले सभी दिशा निर्देश पढ़कर Proceed पर क्लिक करें।

स्टेप 4: अब अपनी सभी जानकारियां दर्ज करके खुद को रिजस्टर करें।

स्टेप 5: अब स्क्रीन पर नजर आ रहे आवेदन को भरें।

स्टेप 6: अब अपने फोटोग्राफ और सिग्नेचर की स्कैन कॉपी अपलोड करें।

स्टेप 7: अब अपनी कैटेगरी के अनुसार आवेदन शुल्क जमा करें।

स्टेप 8: अब अपनी सभी जानकारियां वेरिफाई करके एप्लीकेशन फॉर्म सब्मिट करें।

स्टेप 9: अब अपने आवेदन का प्रिंट आउट ले लें।

आपको बता दें कि इसी साल दिसंबर महीने में आयोजित होने जा रही है यह परीक्षा, 2018 सत्र के लिए है। इससे पहले PSTET परीक्षा 2017 में और उससे पहले 2015 में आयोजित की गई थी। इसलिए वेबसाइट पर एक नोटिफिकेशन के जरिए उम्मीदवारों को बताया गया है कि PSTET 2018 का आयोजिन 15 दिसंबर, 2019 को किया जा रहा है। यदि उम्मीदवारों को इसे लेकर कोई दुविधा है तो वो ऑफिशियल वेबसाइट चेक कर सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।