राहत: कोरोना के चक्रव्यूह से बाहर निकला ये क्षेत्र, मिलेगी कर्फ्यू में ढील
April 23rd, 2020 | Post by :- | 281 Views

कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच कांगड़ा जिले का हॉटस्पॉट घोषित इंदौरा उपमंडल के गंगथ और रप्पड़ क्षेत्र के लोगों के लिए अच्छी खबर है। अप्रैल की शुरुआत में गंगथ क्षेत्र के एक जमाती युवक में कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद से ही घरों में कैद गंगथ व रप्पड़ क्षेत्र के लोग भी कर्फ्यू में ढील का फायदा उठा सकते हैं। यानी शुक्रवार से गंगथ क्षेत्र के लोग भी जिले के दूसरे इलाकों की तरह ही कर्फ्यू ढील यानी सुबह 8 से 11 बजे तक आवश्यक सेवाओं और राशन व सब्जी इत्यादि खरीदने के लिए घरों से निकल सकेंगे।

हॉटस्पॉट घोषित होने के बाद 14 दिन से ज्यादा का समय बीतने के बाद अभी तक यहां कोई नया मरीज नहीं मिला है। इसके चलते जिला प्रशासन द्वारा लोगों की सहूलियत को देखते हुए गंगथ बाजार के तीन किलोमीटर दायरे में आने वाले गंगथ और रप्पड़ के सील इलाके को कोरोना हॉटस्पॉट से ऑरेंज जोन में डिनोटिफाइड कर दिया गया है।

हालांकि, इस सील इलाके में वाहनों व लोगों की आवाजाही को निषेध रखने के लिए हॉटस्पॉट इलाके में हर आने-जाने वाले रास्तों पर लगाए गए नाकों को हॉटस्पॉट की तय 14 दिन की अवधि पूरी होने के बाद ही हटा लिया गया है और अब पुलिस ने इलाके में गश्त के जरिये निगरानी रखनी शुरू कर दी है।

ऑरेंज जोन से ग्रीन जोन में आने के लिए हालात सामान्य रहने पर अभी भी कम से कम और 14 दिन का इंतजार करना पड़ेगा। इससे पहले लॉकडाउन के दूसरे चरण में जिला कांगड़ा में मंगलवार को प्रशासन ने गंगथ और अनूही हॉटस्पॉट क्षेत्रों को छोड़कर कई सशर्त रियायतें देने की घोषणा की थी। लेकिन अब कोरोना हॉटस्पॉट का स्टेटस ऑरेंज जोन में बदलने से आम जनता के साथ-साथ सशर्त कर्फ्यू ढील में आने वाले छोटे दुकानदार भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

गंगथ हॉटस्पॉट को ऑरेंज जोन में डाल दिया है। सील इलाके के लोग जिले के अन्य क्षेत्रों की तरह ही कर्फ्यू ढील का फायदा उठा सकते हैं, लेकिन सरकार व प्रशासन के दिशा निर्देश की पालना में कोताही पर सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। जवाली उपमंडल के तहत अनूही हॉटस्पॉट में अभी स्थिति यथावत रहेगी। यानी कर्फ्यू में कोई छूट नहीं होगी। – राकेश प्रजापति, डीसी कांगड़ा

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।