रेणुका जन संघर्ष समिति ने बांध प्रबंधन के खिलाफ खोला मोर्चा, नारेबाजी कर दी ये चेतावनी #news4
December 18th, 2021 | Post by :- | 108 Views

नाहन : शनिवार को एक तरफ जहां श्री रेणुका बांध प्रबंधन परियोजना का स्थापना दिवस मना रहा था तो वहीं दूसरी तरफ रेणुका जन संघर्ष समिति के कार्यकर्ताओं ने काला दिवस मनाया। कार्यकर्ताओं ने लम्बित मांगों के समर्थन में बांध प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। मामला उस समय गर्मा गया जब बांध प्रबंधन के एक कर्मचारी ने संघर्ष समिति के लोगों को यह कहा कि इन्हें गेट से अंदर नहीं आने देना चाहिए था, ऐसे में स्थिति तनावपूर्ण हो गई लेकिन संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने मामले को शांतिपूर्ण तरीके से रफा-दफा कर दिया। इसके बाद विस्थापितों को उग्र होते देख बांध प्रबंधन को अपना तामझाम उठाकर वहां से जाने पर मजबूर होना पड़ा।

संघर्ष समिति अध्यक्ष योगेंद्र कपिला, संयोजक प्रताप सिंह तोमर, सह संयोजक पूर्ण चंद शर्मा व कानूनी सलाहकार वरुण शर्मा आदि ने विस्थापितों से जुड़ी समस्याओं को लेकर प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कहा कि विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि 27 तारीख को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंडी से वर्चुअल तरीके से इस परियोजना का शिलान्यास करेंगे। यदि बांध प्रबंधन द्वारा विस्थापितों की समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो संघर्ष समिति द्वारा रेणुका बांध स्थल पर काले झंडे लेकर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

संघर्ष समिति के अध्यक्ष ने कहा कि आज बांध प्रबधन परियोजना का स्थापना दिवस रहा है तो संघर्ष समिति विरोध में काला दिवस मना रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने विस्थापित होने वाले ग्रामीणों को आर एंड आर प्लान में तय सुविधाओं से वंचित रखा है। इस दौरान धर्म चंद शर्मा राजकुमार शर्मा गोविंद शर्मा, योगेश कमल, विजय आजाद गंगा दत शर्मा सीताराम, प्रीतम सिंह दर्शन सिंह टेकचंद दौलत राम भाग सिंह नागेंद्र कमल, विद्या चन्द नेगी के अलावा सैंकड़ों कार्यकर्ताओं ने भाग लिया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।