वीरभूमि हिमाचल की धरती पर सैनिक की मर्यादा भूले सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी
November 10th, 2021 | Post by :- | 159 Views

वीरभूमि हिमाचल की धरती पर सैनिक की मर्यादा भूले सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी

देहरा, वीरभूमि हिमाचल की धरती पर सैनिक की मर्यादा भूले सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी आज़ाद हिन्द फौज के सैनिक परिवारों के सम्मान समारोह की आड़ में अहिंसा के पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी व देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को अंग्रेज प्रधानमंत्री क्लिमैंट रिचर्ड ऐटली के लेख पर आधारित शब्दों से अपमानित किया है। देश की आजादी में राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के योगदान पर प्रश्नचिन्ह लगाकर तथाकथित इतिहासकार बने सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी ने भाजपा के प्रभाव में अन्य महान स्वतंत्रता सैनानियों का भी अपमान किया है। जिला काँगड़ा कमेटी के प्रवक्ता सपन सूद ने सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी के महात्मा गाँधी व अन्य स्वतंत्रता सैनानियों के प्रति दिए गए व्यक्तव्य की आलोचना करते हुए कहा की कांग्रेस पार्टी स्वतंत्रता सैनानियों के सम्मान पर किए गए प्रहार की निंदा करती है। उन्होंने कहा की सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी का एक सैनिक होने के नाते कांग्रेस पार्टी सम्मान करती है लेकिन इतिहास के तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर अंग्रेज प्रधानमंत्री के लेख को राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को अपमानित करने के उनके उदेश्य पर माफ़ी मांगने की मांग करती है। जिला प्रवक्ता सपन सूद ने कहा की स्वतंत्रता आंदोलन को लेकर हजारों शोधकर्ताओं ने अपने लेखों में वर्णित किया कि सत्य व अंहिसा के पुजारी महात्मा गाँधी ने अपने साथियों जवाहर लाल नेहरू,सरदार बल्लव भाई पटेल आदि के सहयोग से 1947 में अंग्रेज प्रधानमंत्री क्लिमैंट रिचर्ड ऐटली को भगा दिया था। सपन सूद ने कहा की भारत देश खोने वाले अंग्रेज प्रधानमंत्री के लेख का सहारा लेकर हजारों स्वतंत्रता सेनानियों के मान -सम्मान को सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी के शब्दों से ठेस पहुंची है। कांगेस नेता सपन सूद का कहना की देश की आजादी को लेकर सुभाष चंद्र बोस और उनकी आजाद हिन्द फौज की कुर्बानियों को देश कभी नहीं भुला सकता,लेकिन यह भी अटल सत्य की महात्मा गांधी, रानी लक्ष्मी बाई, लाल बहादुर शास्त्री,जवाहरलाल नेहरु, बाल गंगाधर तिलक, लाला लाजपतराय, चंद्रशेखर आजाद, मंगल पांडेय, भगत सिंह, भीमराव अम्बेडकर, सरदार वल्लभभाई पटेल, सरोजनी नायडू, मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, बिरसा मूंडे, अशफाक़उल्ला खान, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, राम प्रसाद बिस्मिल, सुखदेव थापर, शिवराम राजगुरु, खुदीराम बोस, दुर्गावती देवी (दुर्गा भाभी), गोपाल कृष्ण गोखले, मदन मोहन मालवीय, शहीद उधम सिंह, सरला शर्मा, सुशील रत्न, पहाड़ी गांधी बाबा कांशी राम आदि हजारों स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को भी नहीं भुलाया जा सकता है। उन्होंने कहा की सेवानिवृत जनरल जी डी बक्शी सेना के शौर्य को ढाल बनाकर राजनीति कर रहे है।कांगेस प्रवक्ता सपन सूद ने कहा की मेजर जनरल बक्शी और समारोह करने वालों ने पहाड़ी गांधी बाबा कांशी राम की धरती पर उनके योगदान को एहमियत न देकर उनका भी अपमान किया है। सपन सूद ने कहा की भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में इन वीरों के नाम स्वर्ण अक्षरों से लिखे है,ये सब अपने अकेले के दम पर युवावस्था में सब कुछ त्याग कर देश की आजादी की लड़ाई में कूद पड़े थे।
जारीकर्ता— सपन सूद, प्रवक्ता जिला काँगड़ा कांग्रेस कमेटी ,हिमाचल प्रदेश मोबाईल नं 9418292798

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।