कोरोना मरीजों के भागने की अफवाह फैली और लोगों ने लगा दिए नाके, एसपी ने आधी रात को की अपील, पुलिस करेगी कार्रवाई
April 7th, 2020 | Post by :- | 225 Views

कांगड़ा उपंमडल में सोमवार रात्रि टांडा में दाखिल तब्लीगी जमात के चार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की भागने की अफवाह ने क्षेत्र में दशहत फैला दी। लोग मोबाइल से एक दूसरे से जानकारी मांगते रहे। चारों लोगों के भागने का समाचार इतना फैल गया कि उपंमडल की कई पंचायतों को वहां के बांशिदों ने सील कर दिया व देर रात तक पहरा देते रहे। बात ज्यादा बड़ी तो जिला पुलिस अधीक्षक कांगड़ा विमुक्त रंजन ने खुद सोशल मीडिया अकाउंट से अफवाहों पर विराम लगाया।

एसपी ने फेसबुक पेज पर पोस्ट कर चार लोगों के भागने की बात को मात्र अफवाह बताया और लोगों से अपील की कि ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें और घरों में रहें। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि ऐसी अफवाह फैलाने वालों पर जल्द कानूनी कार्रवाई भी होगी।

बताया जा रहा है पुलिस थाना कांगड़ा व गग्गल के अंतर्गत सोमवार देर रात टांडा मेडिकल कॉलेज में उपचाराधीन कोविड-19 से संक्रमित चारों मरीज भाग जाने की अफवाह ने जोर पकड़ लिया तथा किसी ने यह अफवाह फैला दी कि पंचायत जोगीपुर के निकट ललेहड गांव में चार लोगों को रात को देखा गया। इस पर यहां लोग घरों से बाहर आकर इन्हें तलाश करने लगे। सडकों में आये लोग कह रहे थे कि उन्हें पकड़ो नहीं तो वह यहां आकर हमारे गांव को संक्रमित कर देंगे।

कफ्यू व लॉकडाउन होने के बावजूद गांवों के काफी लोग खुद अपने घरों से बाहर आकर इकट्ठे हो रहे थे। इस अफवाह के साथ साथ एक ओर अफवाह ने जोर पकड़ लिया कि छेब के स्वास्थ्य संस्थान में होम क्वॉरेंटाइन किए लोग भी भाग गए हैं तथा संक्रमण फैला सकते हैं, जिससे कांगड़ा से लेकर मटौर व गगल, खोली, 53 मील सहित कई पंचायतों के अपने घरों से बाहर आ चुके थे। सोशल मीडिया से इस अफवाह को फैलाया गया।

अफवाह से कांगड़ा पुलिस स्टेशन में भी देर रात फोन बजते रहे और कांगड़ा पुलिस यही समझाती रही कि यह मात्र अफवाह है। इस पर ध्यान न दें। मामला बड़ा तो इसकी जानकारी जिला पुलिस अधीक्षक तक पहुंची और फिर उन्होने लोगों को सोशल मीडिया से संदेश दिया कि यह मात्र अफवाह है, इस पर ध्यान मत दें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।