सलाम! 14 माह की मासूम को घर छोड़ कोरोना वायरस के खिलाफ डटा यह अफसर दंपती
March 25th, 2020 | Post by :- | 252 Views

कोरोना का विश्वभर में खौफ है मगर कुछ लोग हैं जो इस प्रलय को अब भी समझ नहीं रहे हंै। हिमाचल में स्थिति को नियंत्रण में रखने में जुटे प्रशासनिक अधिकारियों की हालत इस समय ऐसी बनी हुई है कि इन्हें रात और दिन का भी ध्यान नहीं है। यह केवल ड्यूटी को सामने रखते हुए जनता को किस प्रकार इस महामारी से दूर रखा जाए उसके लिए कर्तव्य पर डटे हुए ह़ैं। पीछे से इनके परिवार की क्या स्थिति है इसकी इन्हें कई बार जानकारी ही नहीं रहती। जिला कांगड़ा के पालमपुर और बैजनाथ उपमंडलों में बतौर प्रशासनिक अधिकारी सेवाएं प्रदान कर रहे ऐसे ही अधिकारी हैं डीएसपी अमित शर्मा और एसडीएम छवि नांटा।

इस प्रशासनिक अधिकारी दंपती की मासूम 14 महीने की बेटी एलीनी घर पर दादी के साथ रह रही हैं। जिस आयु में मां-बाप को पलभर भी देखे बिना बच्चा नहीं रहता है वैसी स्थिति में यह दोनों अधिकारी कर्तव्य को पहले पायदान पर रखते हुए सुबह ही घर से निकल रहे हैं और देर रात घर पर पहुंच रहे हैं। ड्यूटी के दौरान इन्हें पता भी नही रहता कि कब कहां निकलना होता है और मासूम बेटी दादी के साथ माता-पिता का इंतजार करती है।

सुबह ही ड्यूटी के लिए रवाना होता है दंपती

एसडीएम बैजनाथ छवि नांटा और उपमंडल पुलिस अधिकारी पालमपुर अमित शर्मा की 14 माह की बेटी एलीनी है। वह पालमपुर के लोहना स्थित सरकारी आवास में दादी के साथ है। एसडीएम सुबह नौ बजे घर से निकल रही हंै और उसके बाद घर वापसी का समय निश्चित नहीं है। यही हाल डीएसपी अमित शर्मा का है, जो सुबह आठ बजे निकल रहे हैं। पालमपुर जैसे व्यस्त उपमंडल में बतौर पुलिस अधिकारी की कमान संभाल रहे। अमित शर्मा जहां इन दिनों पूरे उपमंडल में घूमते हुए पूरी व्यवस्था पर नजर रखे हुए हैं तो बतौर एसडीएम नांटा पर अधिक जिम्मेदारी है।

क्या कह्ते है अफसर

  • सुबह नौ बजे घर से निकलना हो रहा है। रात को आने का कोई भी समय नहीं है। कर्तव्य पहले है और इसे बाखूबी निभाने में जुटे हैं। बिटिया को दादी देख रही हैं। -छवि नांटा, उपमंडल अधिकारी बैजनाथ
  • इस समय काम को लेकर आने-जाने का कोई भी समय निश्चित नहीं है। बिटिया को घर पर पूरी तरह से माता जी ही देख रही हैं। -अमित शर्मा, डीएसपी पालमपुर

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।