कोटला SDM आफिस शिफ्ट होने से देहरा विधानसभा क्षेत्र के लौगो को हो रही परेशानी:-संदीप ठाकुर … #news4
May 24th, 2022 | Post by :- | 178 Views

देहरा कांग्रेस नेता व प्रदेश सचिव ,सोशल मीडिया विभाग हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी संदीप ठाकुर ने कहा कि पहले देहरा SDM आफिस देहरा होने से हो जाते थे ‘एक पंथ दो काज’ और अब हमारे लौगो को कोटला जाना पडेगा | SDM कार्यालय मे हर नागरिक को काम रहता है चाहे गाड़ी के कागजात (RTO) हो या किसी भी प्रकार के लाईसेंस, चाहे सामाजिक सुरक्षा पेंशन की बात हो या प्राकृतिक आपदा, जाहे जन कल्याणकारी योजनाओं की बात हो या स्थाई निवासी प्रमाण पत्र की बात हो या फिर जमीनी मुद्दे SDM ही क्षेत्रीय सूबे का प्रशासनिक श्रेष्ठ अधिकारी रहता है और इसकी देख रेख मे ही कई जन कल्याण अधिकारी व विकास खंड कार्यालय कार्यरत रहते हैं जिनका रोजमर्रा की जिन्दगी मे आम जनता का नाता जुड़ा रहता है |
पंचायत #बढल से #डाडसीबा तक तथा इससे साथ लगती पंचायतों का नया SDM कार्यालय दूरदराज #कोटला बिना भौगोलिक स्तिथि जाने और बिना जन सर्वेक्षण, #मंत्री मंशा से कर दिये जाने से जन विकास और जन पहुंच बुरी तरह प्रभावित होगी |
सभी Transport सुविधाओं से परिपूर्ण देहरा मे SDM कार्यालय सबंधी कामकाज आसानी से तथा साथ मे अन्य कार्य भी समय और पैसा बचत से हो जाते थे | धर्मशाला, कांगड़ा, योल कार्य के साथ ही रास्ते मे देहरा का भी कार्य, इसी के साथ सिविल अस्पताल देहरा, ECHS, CSD कैंटीन, रोजगार कार्यालय, पानी बिल, बिजली बिल या अन्य संबधी कार्य सूरजपुर, सुनेहत रास्ते मे, आंखो का अस्पताल टियालू बगल मे, कृषि बीज पौदे ढलियारा नेहरन पुखर मे… तमाम कार्य एक लाईन मे एक नहीं तो दूसरा या तीसरा कार्य तो हो ही जाता था |
अब कोटला पहुंचना ही टेड़ी खीर, तो नारी शक्ति मे भी अकेले वहां पहुंचना हिम्मत का कार्य है | आम जनता तो यही कह रही है एक पंथ दो काज की तो छोड़ो आने वाली जनरेशन भी नसीहतें देंगी, लौग थक जायेंगे भगाते-भगाते। संदीप ठाकुर ने कहा कि मे माननीय मुख्यमंत्री से निवेदन करता हूं की मेरे देहरा विधानसभा क्षेत्र की जनता कौ काम काज के लिए दौडाया न जाये और देहरा तहसील को अलग अलग न किया जाये ,पहले जैसा हमारी तहसील देहरा के अंतर्गत बडल से चनौर जो कि देहरा विधानसभा क्षेत्र का भाग है उसे देहरा मे रहने दीजिए ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।