पौंग झील में गिद्धों को लगाए जा रहे सेटेलाइट टेलीमीटरी यंत्र #news4
November 22nd, 2021 | Post by :- | 74 Views

नगरोटा सूरियां : गिद्दों की दिनों दिन कम हो रही संख्या को लेकर वन्य प्राणी विभाग अब सख्‍त  हो गया हे। लेकिन गिद्धों की कम हो रही संख्या के कारण क्या हैं, इसका कोई पता नहीं चल पा रहा है। गिद्धों की कम हो रही संख्या पर जूनियर रिसर्च फैलो मलायसरी भट्टाचार्य तथा प्रोजेक्ट एसिस्टेंट अंकित झोडे द्वारा पौंग झील एरिया में रिसर्च की जा रही है।

वन्य प्राणी विभाग की टीम द्वारा गिद्धों को सेटेलाइट टेलिमीटरी यंत्र लगाए जा रहे हैं ताकि इससे पर नजर रखी जा सके कि आख़िरकार गिद्ध कहां जा रहे हैं और क्या खा रहे हैं। अगर बाहरी देशों में जा रहे हैं तो गिद्धों के वहां जाने का क्या कारण है। सोमवार को वन्यप्राणी विभाग ने पांच गिद्धों को सेटेलाइट टेलिमीटरी यन्त्र लगाए। इसके अलावा पौंग झील एरिया में गिद्धों के लिए बनाए गए फीडिंग सेंटर क्षेत्र पर भी नजर रखी जा रही है। नवंबर माह के शुरूआत से ही पौंग झील में विदेशी परिदों की आगमन के प्रक्रिया शुरू हो जाती है। दिन दिनों पूरी पौंग झील विदेशी परिदों की दस्तक से गुलजार है। वन्य प्राणी विभाग की टीमें पिछले दो सप्ताह से यहां आए परिदों की गणना कर रहीं हैं।

पाक्षिक गणना में पौंग झील में बारहेडिड गीज, कामनटील, नार्दन पेंटल, कामनकूट, लिटल कोरमोरेंट, चिफ चेफ, रुडी, शेल्डक, कामन, पोचार्ड, कामन टिल, लिटिल, कोर्मोरेंट, स्पाट्विल, मलार्ड बर्ड, युरेशियन टीलमूर हेन व ग्रेट इग्रेट प्रजातियों के 34465 विदेशी परिंदे पहुंच चुके हैं, जिनकी संख्या सर्दियां बढ़ने के साथ बढ़ती ही जाएगी। पौंग झील में अब तक सबसे अधिक बारहैडेड गूज व कामन कूट प्रजाति के सबसे अधिक प्रवासी पक्षी पहुंचे हैं।

वन्य प्राणी विभाग हमीरपुर के डीएफओ राहुल एम रोहाणे ने बताया कि गिद्दों की कम हो रही संख्या पर रिसर्च चल रही है। जिसके तहत गिद्धों को सेटेलाइट टेलिमीटरी यंत्र लगाए जा रहे हैं। अभी तक पांच गिद्धोंको यह यंत्र लगाए गए है। उन्होंने कहा कि गिद्धों के खाने के लिए फीडिंग एरिया बनाए गए हैं, जहां पर मृत पशुओं को फेंका जाता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।