सत्ती ने NRC CAA के विरोध में भड़के आंदोलन से नुकसान का ठीकरा विपक्ष के सिर फोड़ा, कानून के समर्थन में लोगों को लाने की बनाई रणनीति
December 22nd, 2019 | Post by :- | 151 Views

“कांग्रेस, कम्युनिस्ट व कुछेक अन्य राजनीतिक दल नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर देश में अराजकता का महौल फैला रहे हैं। लोकतांत्रित देश होने के चलते किसी भी बात का विरोध कोई भी व्यक्ति कर सकता है, लेकिन संपति, जान माल को नुकसान पहुंचाना उचित नहीं है” यह बात हमीरपुर में पत्रकार वार्ता के दौरान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती ने कही। वह सर्वहित सुधार सभा हमीरपुर के सभागार में भाजपा के बुद्धिजीवी सम्मेलन में भाग लेने पहुंचे थे। इस सम्मेलन में भाजपा पदाधिकारियों ने कार्यकर्ताओं व विभिन्न मंडलों से आए लोगों को नागरिकता संशोधन कानून के बारे में बताया। कानून के समर्थन में भाजपा ने मंडल स्तर पर पर भी सम्मेलन आयोजित कर कार्यकर्ताओं व लोगों को जागरूक करने का निर्णय लिया है। प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि 31 दिसंबर तक प्रदेश के सभी जिलों में जिलास्तर पर ऐसे सम्मेलन आयोजित कर लिए जाएंगे।
उन्होंने कहा कि 27 दिसंबर को प्रदेश सरकार दो साल पूरे करने वाली है इस उपलक्ष्य पर शिमला में आयोजित होने वाले कार्यक्रम की रूपरेखा भी बनाई गई। उन्होंने कहा कि हमीरपुर से करीब 1000 कार्यकर्ता व लोग इस सम्मेलन में भाग लेंगे। जबकि प्रदेशभर से 25 हजार लोग इस कार्यक्रम में भाग लेंगे। उन्होंने कहा कि हमीरपुर में इस कार्यक्रम की तैयारियां की गई। उन्होंने कहा कि इसके बाद सरकार की दो साल की उपलब्धियों, विकास कार्यों व योजनाओं के बारे में जिला व मंडल स्तर पर लोगों को बताया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार अपनी नीतियों, योजनाओं व विकास कार्यों के कारण रिपीट करेगी। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल और शांता कुमार के नेतृत्व में भी सरकारों ने बेहतरीन विकास कार्य किए हैं। भाजपा सरकार पहली बार प्रदेया में रिपीट करेगी। इस सम्मेलन में भाजपा जिलाध्यक्ष बलदेव शर्मा, विधायक कमलेश कुमारी, भजपा व एचआरटीसी उपाध्यक्ष विजय अग्रिहोत्री, ज़िला परिषद चेयरमैन राकेश ठाकुर, एपीएमसी चेयरमैन अजय शर्मा, विजयपाल सोहरू सहित सभी मंडलाध्यक्ष, पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।