पांच सालों में आर्थिक-पर्यटन गतिविधयों का केंद्र होगा सराज : कुंडु
July 29th, 2019 | Post by :- | 322 Views

मंडी, 29 जुलाई: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के अतिरिक्त प्रधान सचिव संजय कुंडु ने कहा सराज विधानसभा क्षेत्र अगले 5 सालों में सर्वांगीण विकास की शानदार मिसाल होगा । क्षेत्र में ढांचागत सुविधाओं के सुधार के लिए बड़े पैमाने पर काम किया जा रहा है। सराज क्षेत्र को आर्थिक एवं पर्यटन गतिविधयों के केंद्र के तौर पर विकसित करने के लिए करोड़ों रुपए की विकास योजनाएं शुरू की गई हैं।

कुंडु सोमवार को मंडी में सराज विधानसभा क्षेत्र में जारी विकास कार्यों की समीक्षा के लिए विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे।
इस दौरान पिछले साल दिसंबर में हुई समीक्षा बैठक में योजनाओं के कार्यान्वयन को लेकर दिए निर्देशों के अमलीजामे का ब्यौरा लिया गया। इसके अलावा वर्तमान में चल रहे कार्यों की प्रगति की समीक्षा के साथ ही प्रस्तावित योजनाओं की रूपरेखा पर चर्चा हुई। बैठक में मुख्यमंत्री की घोषणाओं को पूरा करने को लेकर किए गए कार्यों का भी जायजा लिया गया।
मुख्यमंत्री कार्यालय में उपसचिव नरेश कुमार ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया।
उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने अतिरिक्त प्रधान सचिव का स्वागत करते हुए क्षेत्र में विकास कार्यों को समयबद्ध पूरा किए जाने का आश्वासन दिया।

विकास कार्यों की गति पर जताई खुशी, अधिकारियों को दी शाबाशी

संजय कुंडु ने सराज क्षेत्र में विकास कार्यों की तेज गति पर खुशी जताते हुए समर्पित प्रयासों के लिए अधिकारियों की तारीफ की। उन्होंने कहा पिछले साल 4 दिसंबर को मंडी में अधिकारियों व सराज क्षेत्र के प्रबु़द्धजनों के साथ हुई संयुक्त बैठक में क्षेत्र के लिए विकास योजनाओं का खाका तैयार किया गया था। वर्तमान की जरूरतों को पूरा करने के साथ साथ भविष्योन्मुखी विकास के लक्ष्य तय किए गए थे। बीते 6 महीनों में जिस गति से विभिन्न विकास योजनाओं को लेकर धरातल पर काम हुआ है वह सराहनीय है।
उन्होंने अधिकारियों को काम में कोताही बरतने वाले ठेकेदारों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाने को कहा। निर्देश दिए यदि कोई ठेकेदार काम के लिए गंभीर नहीं है तो उसका टेंडर रद्द कर ऐसे लोगों को काम दें जो जेती से गुणवत्तापूर्ण काम के लिए तत्पर है।
इस मौके उन्होंने लोकनिर्माण, सिचाई एवं जनस्वास्थ्य, पर्यटन, कृृषि, बागवानी, स्वास्थ्य, शिक्षा, परिवहन, कल्याण, विद्युत, उद्योग इत्यादि विभागों की योजनाओं की प्रगति, प्रस्तावित योजनाओं की स्थिति का जायजा लिया। कार्यों को गति देने के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

सराज में चल रही 305 करोड़ की पेयजल-सिंचाई योजनाएं
64 करोड़ की नई योजनाओं का काम प्रगति पर

बैठक बाद संजय कुंडु ने पत्रकारवार्ता को संबोधित करते हुए कहा सराज क्षेत्र में वर्तमान में 305 करोड़ रुपए की 29 योजनाएं चल रही हैं। इसके अलावा करीब 64 करोड़ रुपए की नई योजनाओं का काम जोरों पर है। इसके तहत 41.37 करोड़ रुपए से बालीचौकी और साथ लगते गांवों के लिए घर-घर पानी पहुंचाने को पेयजल योजना के लिए टेेंडर प्रक्रिया चल रही है।
11.88 करोड़ रुपए से थुनाग और बालीचौकी में बाढ़ नियंत्रण का कार्य प्रगति पर है। नाबार्ड की मदद से 8.71 करोड़ रुपए की विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं की डीपीआर स्वीकृत की गई है। 2.13 करोड़ की पखरैर सिंचाई योजना की डीपीआर को भी स्वीकृति मिल चुकी है।

51 करोड़ से चमकेगा पर्यटन

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर का पर्यटन विकास पर विशेष जोर है। सराज क्षेत्र में पर्यटन गतिविधियों की अपार संभावनाएं हैं। इनके समुचित दोहन के लिए करीब 51 करोड़ रुपए की योजनाओं पर काम चल रहा है। पर्यटन के नजरिए से अब तक अनछुए स्थलों पर पर्यटन गतिविधयों के विकास के लिए नई राहें-नई मंजिलें योजना के तहत काम किया जा रहा है।योजना के अंतर्गत सराज क्षेत्र में 26.72 करोड़ रुपए खर्चे जा रहे हैं। ये पैसा कैपिंग साईट््स विकसित करने, ट्रैकिंग रूट के सुधार के साथ साथ पर्यटकों के लिए रूकने के अच्छे इंतजाम करने व पार्कों इत्यादि के विकास पर खर्च किया जा रहा है।
इसके अलावा एशियन विकास बैंक के सहयोग से 25 करोड़ रुपए की लागत से जंजैहली में संास्कृतिक केंद्र एवं सामुदायिक भवन बनाया जा रहा है।
क्षेत्र में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए शिकरी माता-कमरूनाग सहित अन्य धार्मिक स्थलों को जोड़ कर पर्यटन सर्किट बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है। रोप वे परियोजनाओं की संभावनाओं को लेकर भी गंभीर प्रयास किए जा रहे हैं।
पिछले साल के मुकाबले इस बार शिकरी देवी आने वाले लोगों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। इस बार पिछली दफा से करीब 1 लाख अधिक लोग शिकारी माता आए। सराज में होम स्टे योजना में 68 पंजीकरण करवाए गए जो जिले में सबसे ज्यादा हैं।

पीएम ग्राम सड़क योजना के लिए 145 करोड़

सराज क्षेत्र में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 145 करोड़ रुपए खर्चे जा रहे हैं। इसके अलावा सड़कों के विस्तार और सुधार का काम जोरों पर हैं। क्षेत्र में 60 किलोमीटर सड़कों के नवीकरण के साथ ही 32 किलोमीटर सड़कों को वाहनयोग्य बनाने और 31 किलोमीटर सड़कों की टारिंग का काम किया गया है।

कृृषि-बागवानी से आय दोगुना करने पर ध्यान

सराज क्षेत्र में कृृषि-बागवानी गतिविधियों को बढ़ावा देकर किसानों की आय दोगुना करने के लिए गंभीर प्रयास किए गए हैं। अभी सराज में करीब 1300 हैक्टैयर भूमि पर सेब की फसल है। जिससे हर सीजन में 6 हजार मीट्रिक टन पैदावार हो रही है।बागवानी विभाग सराज में अगले 5 सालों में सेब की पैदावार को 12 हजार मीट्रिक टन करने के लिए काम कर रहा है। इसके लिए बागवानों को उन्न्त किस्म के पौधे और नई तकनीकी की जानकारी दी जा रही है।
वहीं सब्जियों और फूलों की खेती पर भी खास ध्यान दिया गया है। पॉलीहाउसों के निर्माण पर 1.70 करोड़ रुपए खर्चे गए हैं। रेशम उत्पादन के क्षेत्र में भी प्रयास किए जा रहे हैं। इसकी पैदावार को वर्तमान के 3 क्विंटल से बढ़ाकर 6 क्विंटल करने के लिए योजनबद्ध काम किया जा रहा है।
सराज क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवाओं की मजबूती और चिकित्सा संस्थानों में पर्याप्त संख्या में डॉक्टर व सहायक स्टाफ की तैनाती के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। क्षेत्र में बिजली की समस्या के समाधान के लिए 23 नए ट्रांसफार्मर लगाए गए हैं। 18 सब-स्टेशन का स्तरोन्नयन किया गया है।गांवों में कचरा प्रबंधन के लिए व्यवस्था बनाई जा रही है।
इस अवसर पर अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी श्रवण मांटा, मुख्यमंत्री के निजी सचिव भरत बिष्ट, एसडीएम थुनाग सुरेंद्र मोहन, मुख्य अभियंता लोक निर्माण विभाग के.एस ठाकुर, आईपीएच विभाग के एसई उपेंद्र वैद्य, मुख्य अभियंता विद्युत कौशलेश कपूर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।