अनुसूचित जाति उप योजना में खर्च होंगे 113 करोड़: महेंद्र सिंह ठाकुर
July 5th, 2019 | Post by :- | 123 Views

मंडी, 05 जुलाई: सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य, बागवानी व सैनिक कल्याण मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने अनुसूचित जाति उप योजना की बैठक की अध्यक्षता करते हुए बताया कि इस योजना के तहत मंडी जिला में चालू वित्त वर्ष में 113 करोड़ रूपये व्यय किए जाएंगे। यह धनराशि अनुसूचित जाति समुदाय के सामाजिक व आर्थिक विकास पर खर्च होगी। उन्होंने बताया कि वित्त वर्ष 2018-19 में इस उप-योजना के तहत मंडी जिला में अनुसूचित जाति समुदाय के कल्याण पर 145 करोड़ 60 लाख 83 हजार रूपये व्यय किए गए।

उन्होंने बताया कि बीते वित्त वर्ष में कृषि एवं सम्बद्ध सेवाओं पर 6 करोड़ 60 लाख 41 हजार रूपये, ग्रामीण विकास पर 38 करोड़ 8 लाख, पेयजल व सिंचाई सुविधाओं पर 24 करोड़ 58 लाख, सड़कों व पुलों के निर्माण पर 30 करोड़ 50 लाख, स्वास्थ्य सेवाओं पर 6 करोड़ 68 लाख 85 हजार, शिक्षा पर 7 करोड़ 54 लाख, सामाजिक कल्याण पर 25 करोड़ 28 लाख रूपये व्यय किए गए । इस योजना के तहत 693 अनुसूचित जाति परिवारों को लाभान्वित किया गया।

जब झेलनी पड़ी मंत्री जी की नाराजगी

अनुसूचित जाति उप योजना की बैठक की अध्यक्षता करते हुए महेंद्र सिंह ठाकुर के तेवर उस समय तल्ख हो गए जब कुछ विभागों के अधिकारियों द्वारा आबंटित बजट को बिना विधायकों को बताए खर्चने की बात सामने आई। उन्होंने अधिकारियों को विकास कार्यों का पैसा संबंधित विधायकों की सहमति से खर्चने की हिदायत दी। कहा विधायकों की प्राथमिकताओं को तरजीह दें, उनकी सहमति से विकास कार्यों का पैसा खर्च करें। बिना बताए मनमर्जी से पैसे न खर्चें, समिति को बताए बिना पैसा खर्चने पर बजट का अनुमोदन नहीं किया जाएगा।
उन्होंने कहा विभाग सुनिश्चित करें केवल कुछ एक लोगों को ही बार बार सरकार की योजनाओं का लाभ न मिले। निर्देश दिए हर विधानसभा क्षेत्र के लिए बजट का बराबर आबंटन करें, ताकि गरीब, पात्र व्यक्ति को लाभ मिल सके। विभाग बजट के खर्चे की विस्तृत रिपोर्ट दें।
उन्होंने कहा अधिकारी लोगों के बीच रहें। विशेषकर कृषि और बागवानी विभाग के अधिकारी फील्ड में रहें। लोगों की समस्याएं समझें और सुलझाएं। प्रधानमंत्री का कृषि और बागवानी गतिविधियों को बढ़ावा देकर किसानों की आय दोगुना करने पर जोर है। अधिकारी इसे ध्यान में रख कर काम करें।

मंडी में गरीबों-वंचितों के कल्याण पर खर्च होंगे 36 करोड़

सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य, बागवानी और सैनिक कल्याण मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने शुक्रवार को जिला कल्याण समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा मंडी जिले में वर्ष 2019-20 में गरीबों-वंचितों के कल्याण पर 36 करोड़ रुपए खर्च होंगे। ये पैसा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, वृद्धों और दिव्यांगों के आर्थिक और सामाजिक उत्थान पर खर्चा जाएगा।

बैठक में कल्याण विभाग की विभिन्न योजनाओं के तहत बजट का अनुमोदन किया गया।

मंडी जिला में जुलाई महीने से 7089 लोगों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन के दायरे में लाया गया है। इस प्रकार सामाजिक सुरक्षा पेंशन लाभार्थियों की संख्या पहले के 94873 से बढ़ कर 101962 हो गयी है। जिले में सामाजिक सुरक्षा से जुड़ा कोई मामला लंबित नहीं है। जिले में पेंशन के कुल मामलों में 70 साल से अधिक आयु के लाभार्थियों की संख्या 50328 है।
गौरतलब है कि मौजूदा प्रदेश सरकार ने पेंशन दरों में बढ़ोतरी की है। 750 रुपए की जगह 850 रुपए और 70 प्रतिशत से अधिक दिव्यांगों और 70 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को 1300 रुपए के स्थान पर 1500 रुपए प्रतिमाह पेंशन दी जा रही है।
जिला में गृह अनुदान योजना के तहत 162 घरों का निर्माण किया जाएगा। योजना के तहत गृह निर्माण के लिए 1 लाख 30 हजार रुपए और मुरम्मत कार्य के लिए 25 हजार रुपए का प्रावधान है।
इसके अलावा अंतरजातीय विवाह पुरस्कार योजना के तहत साढ़े 12 लाख रुपए व्यय किये जाएंगे।
अनुवर्ती कार्यक्रम के तहत आजीविका कमाने के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है। दिव्यांग छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति प्रदान करने की योजना में आय सीमा की शर्त को समाप्त कर दिया गया हैं तथा छात्रवृत्ति की दरों में भी बढ़ोतरी की गई है। दिव्यांग विवाह अनुदान योजना के तहत 40 से 74 प्रतिशत तक के दिव्यांगों के मामलों में 25 हजार और 75 से 100 प्रतिशत के मामलों में 50 हजार की अनुदान राशि दी जा रही है। इस योजना के तहत जिला में इस वर्ष पांच लाख रूपये व्यय किए जाएंगे।
आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के युवाओं को कम्पयूटर प्रशिक्षण और दक्षता के लिए मासिक छात्रवृत्ति प्रदान की जा रही है। योजना के तहत जिला में इस वर्ष 418 युवाओं को सहायता प्रदान की जाएगी।
बैठक में सरकाघाट के विधायक कर्नल इन्द्र सिंह, नाचन के विधायक विनोद कुमार, करसोग के हीरा लाल, सुन्दरनगर के राकेश जम्वाल, बल्ह के इन्द्र सिंह गांधी, द्रंग के जवाहर ठाकुर, जोगिन्द्रनगर के प्रकाश राणा ने भी विकास योजनाओं के प्रभावी कार्यान्वयन को लेकर बहुमूल्य सुझाव दिए।
उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने समिति अध्यक्ष व सदस्यों का स्वागत करते हुए समिति के सभी निर्देशों को सही तरीके से लागू करने का भरोसा दिलाया।
बैठक में पुलिस अधिक्षक गुरूदेव शर्मा, अतिरिक्त उपायुक्त आशुतोष गर्ग, जिला परिषद अध्यक्ष सरला ठाकुर, नगर परिषद अध्यक्ष सुमन ठाकुर सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।