तीर्थन घाटी में विना पंजीकरण सामान बेच रहे फेरी वालों पर कसा जाए शिकंजा। #news4
July 29th, 2022 | Post by :- | 379 Views

तीर्थन घाटी गुशैनी बंजार (परस राम भारती):- हिमाचल प्रदेश में बाहरी राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूरों और फेरीवालों का वैसे तो नियमानुसार संबंधित पुलिस थानों में पंजीकरण होना आवश्यक है लेकिन कई प्रवासी वर्षो से विना पंजीकरण किए गांव गांव में घूम कर अपना कारोबार कर रहे है। आए दिनों कई स्थानों पर प्रवासी मजदूर और फेरीवालों का अपराधिक घटनाओं में संलिप्त होना पाया जा रहा है। पंजीकरण और पहचान के अभाव में ऐसे लोगों तक पहुंचने में पुलिस को भी कठिनाई होती है। बाहरी राज्यों से आने वाले कुछ शातिर गांव के भोले भाले लोगों को विश्वास में लेकर ठगी और लूटपाट करके फुर्र हो जाते हैं। इसलिए शासन प्रशासन को ऐसे लोगों पर पैनी नजर रखना बेहद जरूरी है।

जिला कुल्लू उपमंडल बंजार कि तीर्थन घाटी के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में आजकल बाहरी राज्यों से आए फेरीवाले और प्रवासी बेखौफ घूम रहे हैं। इन्हें ना तो पंजीकरण की परवाह है, और ना ही पुलिस का डर है। संबंधित थाना में बिना पंजीकरण गांव-गांव घूम रहे यह फेरीवाले घरेलू उपयोग में आने वाली कई वस्तुओं को सस्ते दामों में और ज्यादा टिकाऊ होने का प्रलोभन देकर लोगों को गुमराह कर रहे है। इनके पास न तो कोई सामान बेचने परमिशन होता है और ना ही कोई बिल होता है। स्थानीय लोगों के पूछने पर यह कोई जाली दस्तावेज दिखाकर लोगों
को संतुष्ट करते हैं या तो कोई ऐसा दस्तावेज दिखाते हैं जिसकी अवधि खत्म हो चुकी होती है।

उपमंडल बंजार की दूरदराज ग्राम पंचायत मशियार में पिछले कल एक ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां के गांव कमेड़ा और मझली में राजस्थान राज्य के दो फेरीवाले सुंदा राम और रमेश कुमार थाने में पंजीकरण किए बिना अपना कारोबार करते हुए पाए गए। लोगों से अधिक वसूली करने की सूचना मिलने पर गांव के युवाओं ने इनसे पहचान पत्र दिखाने को कहा, तब काफी टालमटोल करने के बाद इन्होंने अपने अपने पहचान पत्र दिखाए। यह पहचान पत्र वर्ष 2019 को 1 वर्ष के लिए इन्हें थाना भुंतर से जारी हुए थे जिनकी अवधि अब समाप्त हो चुकी है। जबकि थाना बंजार में इन्होंने अपना पंजीकरण नहीं करवाया है जो इस तरह से लोगों को गुमराह करके यह गांव से रफूचक्कर हो गए।

स्थानीय ग्राम पंचायत मशियार के पूर्व उपप्रधान प्रकाश ठाकुर, वार्ड पंच भाग सिंह, मोती राम, अमर भारती , नारायण दास , पूर्ण चंद, विकी ठाकुर, हेतराम, धर्म चंद, नील चंद, चमन ठाकुर, बेली राम, जीत राम, प्रेम सिंह और ओमी ठाकुर आदि ने बताया कि आजकल बाहरी राज्यों से बहुत प्रवासी और फेरीवाले गांव में आ रहे है जो यहां के भोले भाले लोगों को कई तरह के प्रलोभन देकर ठग रहे है। लोगों ने शासन प्रशासन से मांग की है कि ग्रामीण क्षेत्रों में आने वाले सभी फेरीवालों और प्रवासियों का सम्बंधित थाने में आवश्यक तौर पर पंजीकरण किया जाए। ताकि लोगों के जान माल की सुरक्षा हो सके तथा किसी भी प्रकार की अन्य आपराधिक या अप्रिय वारदात को रोका जा सके।

फलाचन वैली युवक मंडल के प्रधान एवं समाजसेवी मोती राम ठाकुर ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में आने वाले सभी फेरीवालों के पास पहचान पत्र आवश्यक साथ होना चाहिए। इस पहचान पत्र में उसकी फोटो सहित पुरा नाम पता और मकान मालिक का नाम पता सहित उसका मोबाइल नंबर और उसके व्यवसाय से सम्बन्धित स्पष्ट जानकारी अंकित होनी चाहिए। इन्होंने बताया कि इसकी सुचना स्थानीय ग्राम पंचायत प्रधान को दी गई है और अवैध रूप से घूम रहे इन फेरीवालों पर लगाम लगाने की जरूरत है।

ग्राम पंचायत शिल्ली के उपप्रधान एवं बंजार क्षेत्र से आप पार्टी के युवा नेता मोहर सिंह ठाकुर का कहना है कि तीर्थन घाटी में अन्य राज्यों से मेहनत मजदूरी करके आजीविका कमाने और अपना व्यवसाय करने के लिए सैकड़ों प्रवासी किसी ना किसी स्थान पर किराए का कमरा या मकान लेकर रह रहे हैं। इन्होंने बताया कि फेरीवालों और प्रवासियों को भी जीविका अर्जित करने का अधिकार है लेकिन यह सब नियम कायदे के अनुरूप होना चाहिए। इन्होंने कहा कि कमरा या मकान को किराए पर देने वाले मकान मालिक का भी कर्तव्य बनता है कि इनके पास रुके हुए सभी प्रवासियों का थाना में पंजीकरण करवाएं।

पुलिस थाना बंजार के कार्यकारी एसएचओ हरी सिंह का कहना है कि यह स्थानीय जनता के साथ साथ मकान मालिकों, फेरीवालों और प्रवासियों को पंजीकरण करने के लिए जागरूक करते रहते है। इन्होंने बताया कि थाना बंजार में काफी प्रवासियों ने अपना पंजीकरण करवा रखा है, फिर भी यदि कोई प्रवासी जानबूझकर बिना पंजीकरण के थाना क्षेत्र में घूम रहे हैं तो उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। इन्होंने स्थानीय लोगों से भी आव्हान किया है कि यदि किसी भी प्रवासी या फेरीवाले की गतिविधियों पर आशंका हो तो शीघ्र ही पुलिस थाना को सूचित करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।